🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेबीमारीयों के लक्षण व उपचारअजीर्ण (अपच) के 24 घरेलु उपचार – 24 Homemade Remedies for Indigestion (Dyspepsia)

अजीर्ण (अपच) के 24 घरेलु उपचार – 24 Homemade Remedies for Indigestion (Dyspepsia)

भोजन का ठीक प्रकार से न पचना अजीर्ण या अपच कहलाता है| यह एक ऐसी दशा है जिसके कारण छोटे-मोटे कई रोग मनुष्य को घेर लेते हैं| यदि यह व्याधि काफी दिनों तक बराबर बनी रहती है तो शरीर में खून बनना बंद हो जाता है|

“अजीर्ण (अपच) के 24 घरेलु उपचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Homemade Remedies for Indigestion (Dyspepsia) Listen Audio

इसलिए इस रोग को साधारण नहीं समझना चाहिए| इस रोग की सबसे बड़ी खराबी यह है कि यह पुराना पड़ते ही रोगी को कमजोर कर देता है| इसलिए रोग का पता चलते ही इसका इलाज शुरू कर देना चाहिए|

 

अजीर्ण (अपच) के 24 घरेलु नुस्खे इस प्रकार हैं:

1. पपीता

आधा चम्मच कच्चे पपीते का दूध जरा-सी चीनी के साथ सेवन करने से शीघ्र लाभ होता है|


2. मूली, सेंधा नमक, अजवायन और कालीमिर्च, नीबू

कच्ची मूली के टुकड़ों पर थोड़ा-सा सेंधा नमक, पिसी हुई कालीमिर्च तथा अजवायन का चूर्ण बुरक लें| ऊपर से आधा नीबू निचोड़कर मूली को भोजन के बाद चबा-चबाकर खाएं| भोजन पचाने का यह रामबाण नुस्खा है|


3. लौंग, हरड़ और सेंधा नमक

दो लौंग, एक हरड़ का चूर्ण तथा एक चुटकी सेंधा नमक-इन सबका काढ़ा बनाकर सेवन करें|


4. प्याज और सेंधा नमक

प्याज के रस में थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर पीने से अपच की शिकायत जाती रहती है|


5. धनिया, काला नमक और कालीमिर्च

10 ग्राम सुखा धनिया, चार-पांच कालीमिर्च तथा दो चुटकी काला नमक-तीनों को पीसकर गरम पानी के साथ भोजन के बाद सेवन करें|


6. जीरा, कालीमिर्च, सोंठ और सेंधा नमक

10 ग्राम जीरा, 5 ग्राम कालीमिर्च, 5 ग्राम सोंठ का चूर्ण तथा 3 ग्राम सेंधा नमक – इन सबको पीसकर चूर्ण बनाकर शीशी में भरकर रख लें| भोजन के पश्चात् एक चम्मच चूर्ण कुछ दिनों तक नियमित रूप से लें| इससे अपच की शिकायत जाती रहेगी|


7. जीरा, सेंधा नमक और कालीमिर्च

तवे पर भुना हुआ जीरा, सेंधा नमक तथा कालीमिर्च उचित मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें| इसमें से आधा चम्मच चूर्ण मट्ठे या दही के साथ सेवन करें|


8. देशी कपूर, अजवायन और पुदीना

देशी कपूर 10 ग्राम, अजवायन 10 ग्राम तथा पुदीना 10 ग्राम – तीनों को पीसकर चटनी बना लें| इसमें से एक चम्मच चटनी दोनों वक्त भोजन के बाद सेवन करें|


9. लहसुन, अदरक, धनिया और कालीमिर्च, जीरा

दो कलियां लहसुन, एक टुकड़ा अदरक, थोडा-सा हरा धनिया, कालीमिर्च 3 ग्राम, जीरा 5 ग्राम और नामक 3 ग्राम – सबको पीसकर चटनी बना लें| इस चटनी का प्रयोग भोजन के साथ करें|


10. मूली और शक्कर

मूली के रस में शक्कर मिलाकर पीने से अफरा तथा अपच दोनों दूर हो जाते हैं|


11. प्याज और नीबू

प्याज काटकर उस पर थोड़ा-सा नीबू निचोड़ लें| इसे नित्य भोजन के साथ सेवन करें|


12. दही, मट्ठा, जीरा, नमक, और कालीमिर्च

दही या मट्ठे में आधा चम्मच भुना हुआ जीरा, आधा चम्मच नमक तथा आठ-दस कालिमिर्चों का चूर्ण पीसकर मिला लें| यह मट्ठा भोजन के बाद पिएं|


 13. सोंठ, हींग , कालीमिर्च और काली जीरी

सोंठ, हींग, कालीमिर्च तथा काली जीरी का समभाग लेकर चूर्ण बना लें| इसमें से एक-एक चम्मच चूर्ण गरम पानी से सुबह-शाम लें|


14. केला

केले की सब्जी या पके केले खाने से अपच दूर होता है| पके केले कम से कम तीन अवश्य खाने चाहिए|


15. पीपल और नीबू

थोड़ी-सी पीपल खरल करके नीबू के रस में मिलाकर उसे भोजन करने के बाद सेवन करें|


16. हींग और पानी

हींग को पानी में भिगोकर नाभि पर रखने से डकार आ जाती है और गैस बाहर निकल जाती है|


17. धनिया और मिश्री

धनिया तथा मिश्री का काढ़ा दिन में चार बार पीने से बदहजमी की शिकायत दूर हो जाती है|


18. कुलथी

कुलथी के पत्तों का रस पीने से अपच दूर हो जाता है|


19. जामुन

जामुन की छाल लेकर सुखा लें| फिर उसे पीसकर चूर्ण बना लें| एक चम्मच चूर्ण नित्य खाने से खट्टी डकारें तथा अपच की व्याधि दूर हो जाती है|


20. राई और मेथी

एक चम्मच राई में आधा चम्मच मेथी के दाने मिलाकर साबुत ही मट्ठे या गरम पानी से निगल जाएं|


21. टमाटर, कालीमिर्च और सेंधा नमक

टमाटर का रस आधा कप लेकर उसमें दो चुटकी सेंधा नमक और चार-पांच कालीमिर्च का चूर्ण मिला लें| इसके सेवक से अजीर्ण दूर हो जाता है|


22. नारंगी, काला नमक और सोंठ

नारंगी की फांक पर काला नमक और पीसी हुई सोंठ डालकर सेवन करने से अपच ठीक होता है|


23. हरड़, लौंग और नमक

छोटी हरड़, लौंग तथा नमक का काढ़ा बनाकर पीने से भी अपच दूर हो जाता है|


24. तुलसी, कालीमिर्च, सोंठ और अजवायन

तुलसी के चार-पांच पत्ते, चार दाने कालीमिर्च, एक चम्मच सोंठ, एक चम्मच अजवायन तथा जरा-सा सेंधा नमक-सबको मिलाकर काढ़ा बनाकर सेवन करें|


अजीर्ण (अपच) में क्या खाएं क्या नहीं

हरी सब्जियां जैसे – मूली, पालक, मेथी, लौकी, तरोई, परवल आदि का सेवन करें| रेशे वाली चीजें अधिक मात्रा में खाएं| आटे की रोटी के साथ चोकर की रोटी भी खाएं| दोपहर के भोजन के बाद आराम तथा रात्रि के भोजन के बाद एक-दो किलोमीटर तक टहलने का कार्यक्रम बनाएं| मिर्च, मसाले, गरिष्ठ भोजन, मछली, शराब, अंडा आदि का सेवन न करें|

यदि अजीर्ण पुराना हो तो गेहूं की दलिया, मूंग की दाल, छाछ, पतली रोटी आदि के सिवाय और कुछ न खाएं| दिन में चार-पांच गिलास पानी जरूर पिएं| जाड़े की ऋतु में गुनगुना पानी पी सकते हैं| फ्रिज में रखा भोजन, साग-सब्जी, दाल आदि न खाएं| सदैव ताजा तथा पौष्टिक भोजन करें|

मन में क्रोध, ईर्ष्या, तनाव, अधिक धन कमाने की लालसा आदि को बिलकुल न आने दें| प्रत्येक कार्य काफी सोच-समझकर और धैर्य के साथ करें| मन के विचारों का सीधा प्रभाव पेट पर पड़ता है| फास्ट फूट कभी न खाएं| प्रतिदिन शरीर पर तेल की मालिश करके स्नान करें|

अजीर्ण (अपच) का कारण

यह रोग समय-कुसमय गरिष्ठ एवं अधिक भोजन करने, बिना चबाए भोजन जल्दी-जल्दी निगल जाने, चाय, शराब आदि का अधिक मात्रा में सेवन करने, शारीरिक तथा मानसिक परिश्रम अधिक करने या बिलकुल न करने के कारण हो जाता है| जो लोग खटाई, तेल, अचार, मिर्च-मसाले आदि अधिक खाते हैं, उनको भी यह रोग हो जाता है| आजकल ज्यादातर लोग गंदे वातावरण की चिन्ता न करके आपा-धापी का जीवन बिताते हैं| इसी प्रकार दूषित एवं अस्वास्थ्यकर मकान में रहने, कसे वस्त्र पहनने तथा घी-तेल की चीजें अधिक मात्रा में खाने के कारण भी अपच की बीमारी हो जाती है|

अजीर्ण (अपच) की पहचान

इस रोग में भूख नहीं लगती| भोजन हजम नहीं होता| लगता है, जैसे पेट में कुछ रखा हुआ है| पेट फूल जाता है, जी मिचलाता है और कब्ज की शिकायत हो जाती है| मुंह में पानी भर जाता है तथा पेट में हर समय हल्का-हल्का दर्द होता रहता है| खट्टी-खट्टी डकारें आना, जी मिचलाना, पेट में गैस बनना, सांस में दुर्गंध निकलना, जीभ पर मैल जम जाना, पेट फूलना आदि अजीर्ण रोग के प्रमुख लक्षण हैं| कभी-कभी रोगी को घबराहट भी हो जाती है|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏