Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु हरि कृष्ण जीश्री गुरु हरि कृष्ण जी – ज्योति ज्योत समाना

श्री गुरु हरि कृष्ण जी – ज्योति ज्योत समाना

रानियों के महल से वापिस आकर कुछ समय बाद गुरु जी को बुखार हो गया जिससे सबको चिंता हो गई| बुखार के साथ-साथ दूसरे दिन ही गुरु जी को शीतला निकल आई| जब एक दो दिन इलाज करने से बीमारी का फर्क ना पड़ा तो इसे छूत की बीमारी समझकर राजा जयसिंह के बंगले से आपको यमुना नदी के किनारे तिलेखरी में तम्बू कनाते लगाकर भेज दिया|

श्री गुरु हरि कृष्ण जी ज्योति – ज्योत समाना सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

इस प्रकार दो दिन दो राते गुरु जी को बहुत कष्ट रहा जिससे आपकी हालत खराब हो गई| सिखो ने प्रार्थना की महाराज! संगत के लिए क्या आज्ञा है किसके जिम्मे लगा चले हो| घर-घर गुरु बन बैठेगें| इसलिए संगत की बाजू किसे पकड़ाओगे| कृपा करके हमें बताए|

गुरु जी ने अपने मसंद भाई गुरुबक्श जी से एक ओर पांच पैसे मंगवाकर थाल में रखकर उनको माथा टेक कर कहा –

"बाबा बसहि जि गराम बकले|| 
बनि गुर संगति सकल समाले||"

यह वचन करके आपजी कुश के आसन पर चादर तान कर लेट गए और शरीर त्यागकर स्वर्ग सिधार गए|

कुल आयु व गुरु गद्दी का समय (Shri Guru Har Krishan Ji Total Age and Ascension to Heaven)

Also Read:   जयसिंह की रानी की परख करनी - साखी श्री गुरु हरि कृष्ण जी

श्री गुरु हरि कृष्ण जी 5 साल 2 महीने की उम्र में गुरु गद्दी पर बैठ कर 2 साल 5 महीने गुरुत्व करके चेत्र सुदी चौदस 1721 विक्रमी को ज्योति ज्योत समां गए|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT