🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेबीमारीयों के लक्षण व उपचारहिचकी (हिक्का रोग) के 21 घरेलु उपचार – 21 Homemade Remedies for Hiccough Disease

हिचकी (हिक्का रोग) के 21 घरेलु उपचार – 21 Homemade Remedies for Hiccough Disease

हिचकी या हिक्का रोग में सांस-रुक-रुककर या हिक्-हिक् की आवाज के साथ बाहर निकलते है| यह रोग पेट में समान वायु तथा गले में उदान वायु के प्रकोप से पैदा होती है|

“हिचकी (हिक्का रोग) के 21 घरेलु उपचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Homemade Remedies for Hiccough Disease Listen Audio

चूंकि वायु रुक-रुककर मुख से बाहर निकलती है इसलिए रोगी को घबराहट होती है| वह समझता है की उसके गले में कोई भीतरी चीज अटक गई है, अत: उसकी मृत्यु शीघ्र ही हो जाएगी| इसका सम्बंध कभी-कभी वायु विकार से भी होता है| उस समय इसे मानसिक रोग कहा जाता है| ऐसी हालत में रोगी को मानसिक रूप से शान्त रहने तथा वायु को कम करने वाले पथ्य देने के निर्देश दिए जाते हैं|

 

 

हिचकी (हिक्का रोग) के 21 घरेलु नुस्खे इस प्रकार हैं:

1. लौंग

हिचकी आते ही लौंग भूनकर रोगी को खिलाना चाहिए|


2. मोर का पंख और शहद

मोर के पंख जलाकर दो रत्ती चूर्ण शहद के साथ दिन में तीन बार दें|


3. चावल, घी और मक्खन

उबले चावलों में घी या मक्खन डालकर चबलाकर खाएं|


4. नीबू और काला नमक

नीबू के रस में जरा-सा काला नमक मिलाकर पिएं|


5. मुलहठी और शहद

मुलहठी का चूर्ण शहद के साथ चाटें|


6. अदरक, कालीमिर्च, काला नमक और नीबू

अदरक का रस एक चम्मच, कालीमिर्च का चूर्ण एक चुटकी, नीबू का रस आधा चम्मच तथा काला नमक एक चुटकी – सबको मिलाकर चाटने से हिचकियां तुरन्त बंद हो जाती हैं|


7. हींग

हींग की धूनी देने से हिचकी तत्काल रुक जाती है|


8. बर्फ

बर्फ का पानी पीने से हिचकियां बंद हो जाती हैं|


9. धनिया

धनिया के दाने मुख में रखकर चूसें|


10. पुदीना और पानी

पुदीने को पानी में उबालकर पानी पिएं|


11. सोंठ और गुड़

सोंठ का चूर्ण तथा पुराना गुड़ – दोनों को मिलाकर बार-बार सूंघने से भी हिचकी बंद हो जाती है|


12. मक्खन और कालीमिर्च

दो चम्मच मलाई या मक्खन जरा-सी कालीमिर्च के चूर्ण के साथ खाने से भी हिचकी रुक जाती है|


13. नारियल

नारियल का पानी दिन में चार-पांच बार पिएं|


14. गाय का मक्खन और मिश्री

गाय का ताजा मक्खन तथा मिश्री खाने से हिचकी बंद हो जाती है|


15. घी और बूरा

दिन में तीन-चार बार घी और बूरा खिलाएं|


16. प्याज

प्याज को काटकर बार-बार सूंघें|


17. गन्ना और शहद

गन्ने का रस नीबू डालकर पिएं|


18. आम और शहद

कच्चे आम की गुठली के भीतर की गिरी निकालकर धूप में सुखा लें| फिर उसे पीसकर चूर्ण बना लें| आधा चम्मच चूर्ण शहद के साथ चाटें|


19. अमृतधारा और पानी

घर में रखी हुई अमृतधारा की दो बूंदें पानी में डालकर पिएं|


20. इलायची, सेंधा नमक और पानी

सफेद इलायची को पीसकर उसके चूर्ण में जरा-सा सेंधा नमक डालकर फंकी लगाएं| ऊपर से ठंडा पानी पी लें|


21. तुलसी और शहद

तुलसी के पत्तों का रस एक चम्मच शहद के साथ चाटने से भी हिचकी बंद हो जाती है|

 

हिचकी (हिक्का रोग) में क्या खाएं क्या नहीं

अधिक गरम तथा अधिक ठंडी चीजों का सेवन न करें| भोजन करने के एक घंटे बाद पानी पिएं| पेट में कब्ज, अफरा, आमाशय में खुश्की आदि नहीं होनी चाहिए| साग-सब्जियों में तरोई, लौकी, कद्दू, फरासबीन की फलियां, मटर, टमाटर, भिण्डी, कटहल आदि का प्रयोग अधिक करें| इस रोग में फुल्का का साग बहुत लाभदायक है| तरोतज नमक घास की सब्जी बनाकर खाएं| मूली का सेवन सेंधा नमक के साथ करें| रात को सोने से पूर्व गाय का दूध पिएं| गले तथा पैरों के तलवों पर चार मिनट देशी घी मलें|

खुश्की पैदा करने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन न करें| आलू, प्याज, अंडा, मांस, मछली, चावल, अरहर एवं मूंग की दाल का उपयोग नहीं करना चाहिए| दूध, मलाई, घी तथा मक्खन का सेवन उचित मात्रा में करना चाहिए| भोजन करने के पश्चात् मूत्र त्याग अवश्य करें| बैंगन तथा करेले की सब्जी न खाएं| सुबह उठकर एक गिलास पानी में एक नीबू निचोड़कर नित्य पीने की आदत डालें|

 

हिचकी (हिक्का रोग) का कारण

हिचकी साधारण रूप से फ्रेनिक स्नायु की उत्तेजना के कारण कंठ की पेशी में संकुचन होने के फलस्वरूप आती है| स्वायु की उत्तेजना के तीन कारण बताए गए हैं – भावनात्मक हालत, आमाशय का अधिक भरा होना तथा मिर्च, मसाले, खटाई, खट्टे या कड़वे भोजन का सेवन|

 

हिचकी (हिक्का रोग) की पहचान

रोगी बार-बार हिचकियां लेकर सांस को बाहर फेंकता है| कंठ अवरुद्ध हो जाता है| पेट में दर्द तथा कब्ज की शिकायत होती है| पेट में वायु अधिक बननी शुरू हो जाती है जो अपान वायु के रूप में नहीं छूटती| सिर में दर्द, उबकाई, माथे पर पसीना, पेट फूलना आदि शिकायतें होने लगती हैं| कई बार लम्बे समय तक हिचकियां आती रहती हैं| रोगी बुरी तरह घबरा जाता है|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products

 

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏