🙏 भारतीय हस्तशिल्प खरीदें और समर्थन करें 🙏

Home05. सुन्दरकाण्ड

05. सुन्दरकाण्ड (2)

श्लोक

शान्तं शाश्वतमप्रमेयमनघं निर्वाणशान्तिप्रदं

ब्रह्माशम्भुफणीन्द्रसेव्यमनिशं वेदान्तवेद्यं विभुम् ।

सखा कही तुम्ह नीकि उपाई। करिअ दैव जौं होइ सहाई॥

मंत्र न यह लछिमन मन भावा। राम बचन सुनि अति दुख पावा॥

🙏 भारतीय हस्तशिल्प खरीदें और समर्थन करें 🙏