🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeगुरु जी के भजन

गुरु जी के भजन (6)

गुरु आज्ञा में निश दिन रहिये ।
जो गुरु चाहे सोयि सोयि करिये॥

गुरु चरनन में ध्यान लगाऊं।
ऐसी सुमति हमे दो दाता ॥

गुरु चरनन मे शीश झुकाले
जनम सफल हो जायेगा

गुरु बिन कौन सम्हारे ।
को भव सागर पार उतारे ॥

गुरु मेरी पूजा , गुरु गोविन्द ..
गुरु मेरा पार ब्रह्म , गुरु भगवंत..

नैया पड़ी मंझधार गुरु बिन कैसे लागे पार ..

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏