Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु अर्जन देव जीश्री गुरु अर्जन देव जी – गुरु गद्दी मिलना

श्री गुरु अर्जन देव जी – गुरु गद्दी मिलना

आप अपने ननिहाल घर में ही पोषित और जवान हुए| इतिहास में लिखा है एक दिन आप अपने नाना श्री गुरु अमर दास जी (Shri Guru Amar Das ji) के पास खेल रहे थे तो गुरु नाना जी के पलंघ को आप पकड़कर खड़े हो गए| बीबी भानी जी आपको ऐसा देखकर पीछे हटाने लगी|

श्री गुरु अर्जन देव जी गुरु गद्दी मिलना सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

गुरु जी अपनी सुपुत्री से कहने लगे बीबी! यह अब ही गद्दी लेना चाहता है मगर गद्दी इसे समय डालकर अपने पिताजी से ही मिलेगी| इसके पश्चात गुरु अमर दास जी (Shri Guru Amar Das Ji) ने अर्जन जी को पकड़कर प्यार किया और ऊपर उठाया| आपजी का भारी शरीर देखकर वचन किया जगत में यह भारी गुरु प्रकट होगा| बाणी का जहाज़ तैयार करेगा और जिसपर चढ़कर अनेक प्रेमियों का उद्धार होगा| इस प्रथाए आप जी का वरदान वचन प्रसिद्ध है-

"दोहिता बाणी का बोहिथा||"

गुरु रामदास जी (Shri Guru Ramdas Ji) द्वारा श्री अर्जन देव जी को लाहौर भेजे हुए जब दो वर्ष बीत गए| पिता गुरु की तरफ से जब कोई बुलावा ना आया| तब आपने अपने ह्रदय की तडप को प्रकट करने के लिए गुरु पिता को चिट्ठी लिखी

राग माझ || महला ५ चउपदे घरु १ ||
१. मेरा मनु लोचै गुर दरसन ताई || 
बिलाप करे चात्रिक की निआई || 
त्रिखा न उतरै संति न आवै बिनु दरसन संत पिआरे जीउ ||१|| 
हउ घोली जीउ घोली घुमाई गुर दरसन संत पिआरे जीउ || १ || रहाउ ||

जब इस चिट्ठी का कोई उत्तर ना आया तो आपने दूसरी चिट्ठी लिखी –

२. तेरा मुखु सुहावा जीउ सहज धुनि बाणी || 
चिरु होआ देखे सारिंग पाणी || 
धंनु सु देसु जहा तूं वसिआ मेरे सजण मीत मुरारे जीउ || २ || 
हउ घोली हउ घोल घुमाई गुरु सजण मीत मुरारे जीउ || १ || रहाउ ||

जब इस चिट्ठी का भी उत्तर ना आया तब आपने तीसरी चिट्ठी लिखी –

३. एक घड़ी न मिलते ता कलियुगु होता || 
हुणे कदि मिलीए प्रीअ तुधु भगवंता || 
मोहि रैणि न विहावै नीद न आवै बिनु देखे गुर दरबारे जीउ || ३ || 
हउ घोली जीउ घोलि घुमाई तिसु सचे गुर दरबारे जीउ || १ || रहाउ ||

गुरूजी ने जब आपकी यह सारी चिट्ठियाँ पड़ी तो गुरूजी ने बाबा बुड्डा जी को लाहौर भेजकर गुरु के चक बुला लिया| आप जी ने गुरु पिता को माथा टेका और मिलाप की खुशी में चौथा पद उच्चारण किया –

४. भागु होआ गुरि संतु मिलाइिआ || 
प्रभु अबिनासी घर महि पाइिआ || 
सेवा करी पलु चसा न विछुड़ा जन नानक दास तुमारे जीउ || ४ || 
हउ घोली जीउ घोलि घुमाई जन नानक दास तुमारे जीउ || रहाउ || १ || ८ || (पन्ना ९३ - ९७)

गुरु पिता प्रथाए अति श्रधा और प्रेम प्रगट करने वाली यह मीठी बाणी सुनकर गुरु जी बहुत खुश हुए| उन्होंने आपको हर प्रकार से गद्दी के योग्य मानकर भाई बुड्डा जी और भाई गुरदास आदि सिखो से विचार करके आपने भाद्र सुदी एकम संवत् 1639 को सब संगत के सामने पांच पैसे और नारियल आपजी के आगे रखकर तीन परिक्रमा करके गुरु नानक जी की गद्दी को माथा टेक दिया| आपने सब सिख संगत को वचन किया कि आज से श्री अर्जन देव जी ही गुरुगद्दी के मालिक हैं| इनको आप हमारा ही रूप समझना और सदा इनकी आज्ञा में रहना|

Also Read:   श्री गुरु अर्जन देव जी - जीवन परिचय

बाबा प्रिथी चंद जी का तीक्षण वोरोध और झगड़ा देखकर गुरु जी ने बाबा बुड्डा जी आदि बुद्धिमान सिखो को कहा कि हमारा अन्त समय नजदीक आ गया है और हम गोइंदवाल जाकर शांति से अपना शरीर त्यागना चाहते हैं| दूसरे दिन प्रातःकाल गुरु जी श्री अर्जन देव जी, बीबी भानी जी सहित कुछ सिख सेवको को साथ लेकर गोइंदवाल पहुँच गए| दूसरे दिन सुबह दीवान सजाकर संगत को वचन किया हमारा अन्तिम समय नजदीक आगया है और हमने गुरु गद्दी श्री अर्जन देव जी (Shri Guru Arjun Dev Ji) को दे दी है|

इस प्रकार गुरु राम दास जी ने 1639 विक्रमी मुताबिक 1 सितम्बर 1591 को गोइंदवाल जाकर गुरु पद का तिलक दे दिया और आप भाद्रव सुदी तीज को पांच तत्व का शरीर त्यागकर अपने आत्मिक स्वरूप में विलीन हो गए| हरबंस भट्ट अपने सवैये में लिखते हैं-

हरिबंस जगति जसु संचर्यउ सु कवणु कहैं स्री गुरु मुयउ||१|| 
देव पुरी महि गयउ आपि परमेसुर भायउ|| 
हरि सिंघासणु दीअउ सिरी गुरु तह बैठायउ|| 
(श्री गुरु ग्रंथ साहिब पन्ना १४०९) 

Khalsa Store

Rs. 199
Rs. 299
1 new from Rs. 199
Amazon.in
Rs. 239
Rs. 800
1 new from Rs. 239
Amazon.in
Rs. 329
Rs. 999
2 new from Rs. 329
Amazon.in
Rs. 299
Rs. 595
1 new from Rs. 299
Amazon.in
Rs. 3,999
2 used from Rs. 1,768
Amazon.in
Rs. 250
3 new from Rs. 250
Amazon.in
Last updated on August 19, 2018 9:28 am

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

Also Read:   बाला और कुष्णा पंडित को मन शांति का उपदेश - साखी श्री गुरु अर्जन देव जी
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव नीचे कॉमेंट बॉक्स में लिखें व इस ज्ञानवर्धक ख़जाने को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT