🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेबीमारीयों के लक्षण व उपचारअतिसार दस्त के 26 घरेलु उपचार – 26 Homemade Remedies for Diarrhea Diarrhea

अतिसार दस्त के 26 घरेलु उपचार – 26 Homemade Remedies for Diarrhea Diarrhea

भोजन न पचने (अग्निमांद्य) की वजह से द्रव्य धातु से मिलकर पाखाना (मल) वायु सहित गुदा से बाहर निकलता है, इसे अतिसार या दस्त कहते हैं| यह छ: प्रकार का होता है – वातिक, पैत्तिक, श्लेष्मज, त्रिदोषज, शोकज तथा आमज|

“अतिसार दस्त के 26 घरेलु उपचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Homemade Remedies for Diarrhea Diarrhea Listen Audio

इस रोग में दस्त कई रंग के आते हैं| दस्तों के साथ पेट में मरोड़ भी होती है| पेट में शूल उठता है और रोगी को बार-बार मल त्याग करने जाना पड़ता है| इसके बाद भी उसे चैन नहीं मिलता| कभी-कभी दस्तों के साथ खून भी आता है|

 

अतिसार दस्त के 26 घरेलु नुस्खे इस प्रकार हैं:

1. बेल और पानी

बेल का गूदा पानी में मथकर थोड़ी-सी शक्कर मिलाकर नित्य कुछ दिनों तक पीने से दस्त बंद हो जाते हैं|


2. पीपल और पानी

पीपल के दो पत्तों को पानी में उबालकर पानी पिएं|


3. बेल

बेल का मुरब्बा सेवन करने से हर प्रकार के दस्त रुक जाते हैं|


4. सौंफ, ईसबगोल, बेलगिरी और चीनी

सौंफ, ईसबगोल, बेलगिरी तथा चीनी-सब 100-100 ग्राम की मात्रा में पीसकर चूर्ण बनाकर कांच की शीशी में रख लें| इसमें से 5-5 ग्राम चूर्ण नित्य सुबह-शाम मट्ठे या ताजे पानी के साथ सेवन करें|


5. दूब

यदि दस्त के साथ खून आने की शिकायत हो तो दूब का रस आधा चम्मच सेवन करें या थोड़ी-सी दूब का काढ़ा बनाकर पिएं|


6. जामुन, मट्ठा, पानी और आम

जामुन और आम की गुठली की गिरी पीसकर चूर्ण बना लें| सुबह-शाम आधा-आधा चम्मच चूर्ण मट्ठे या ताजे पानी से लें|


7. अफीम और पानी

एक रत्ती अफीम पानी के साथ लेने से दस्त रुक जाते हैं|


8. जामुन और चीनी

पके हुए फरैंदा जामुन का रस पांच चम्मच लेकर उसमें जरा-सी चीनी या गुड़ मिलाकर सेवन करें|


9. रीठा:

दो चम्मच रीठे का पानी पीने से हर तरह के दस्त रुक जाते हैं|


10. जायफल, तुलसी और पानी

थोडा-सा जायफल सिल पर घिसें| उसमें तुलसी के बीजों का चूर्ण आधे चम्मच की मात्र में मिलाएं| फिर इसे एक कप पानी में घोलकर पी जाएं|


11. लौकी और छाछ

लौकी का रायता छाछ में बनाकर भोजन के साथ लें|


12. छाछ और शहद

रोज दो कप छाछ में एक चम्मच शहद मिलाकर कुछ दिनों तक सेवन करने से हर प्रकार का दस्त समाप्त हो जाता है|


13. आम

आम की कोंपलों को पानी में औटाकर छानकर सेवन करें|


14. बेल और फिटकिरी

बेल का रस एक गिलास लेकर उसमें एक चुटकी भुनी हुई फिटकिरी मिलाकर सुबह-शाम पिएं|


15. नीबू और घी

यदि किसी अंग्रेजी दवा के कारण दस्त हो तो नीबू के रस में थोड़ा-सा घी मिलाकर पी जाएं|


16. पुदीना और पानी

चार बूंद अर्क पुदीना ताजे पानी में डालकर सेवन करें|


17. दाल और बथुआ

बथुए की सब्जी मूंग की दाल में मिलाकर खाने से दस्तों में काफी आराम मिलता है|


18. इमली, पानी और मट्ठा

इमली के चियों को पानी में पीस लें| फिर दो चम्मच की मात्र में मट्ठे के साथ सेवन करें|


19. नीम और मिश्री

यदि गरमी के मौसम में दस्त का रोग हो जाए तो चार-पांच नीम के मुलायम पत्ते पानी में उबाल-छानकर थोड़ी-सी मिश्री डालकर पी जाएं|


20. तुलसी

तुलसी के दो-चार पत्ते सुबह-शाम चबा जाएं| दस्त रुक जाएंगे|


21. दालचीनी

2-3 ग्राम दालचीनी का चूर्ण खाकर ऊपर से पानी पी लें|


22. पानी, अदरक और कालीमिर्च

एक कप पानी में अदरक का रस एक चम्मच तथा चार दाने कालीमिर्च औटाकर काढ़े के रूप में सेवन करें|


23. पीपल, हरड़ और काला नमक

चार पीपल, दो छोटी हरड़ तथा दो चुटकी काला नमक पीसकर तीन खुराक करें| दिन में तीन बार इस चूर्ण को लेने से दस्त बंद हो जाते हैं|


24. धनिया

धनिया का चूर्ण एक चम्मच की मात्रा में फांककर पानी पी लें|


25. अखरोट

एक अखरोट की गिरी को महीन पीसकर नाभि पर पतला-पतला लेप करें| यदि दस्तों में ऐंठन या मरोड़ होगी तो वह भी रुक जाएगी|


26. खसखस, पानी और दही

दो चम्मच खसखस थोड़े-से पानी में पीस लें| फिर इसे दही में मिलाकर खाने से मरोड़ वाले दस्त रुक जाते हैं|


अतिसार दस्त में क्या खाएं क्या नहीं

दस्तों में आराम पहुंचाने वाला भोजन मूंग की दाल की पतली खिचड़ी है| यह खिचड़ी बिना घी डाले छाछ या मट्ठे के साथ खानी चाहिए| मिर्च-मसाले वाले भोज्य पदार्थों या पकवान का प्रयोग दस्त ठीक होने तक न करें| दिनभर तुलसी की पत्तियों का पानी पिएं| यह पानी बनाने के लिए एक लीटर पानी में चार-पांच तुलसी की पत्तियां डालकर उबाल लें| इस पानी को तांबे के बरतन में रख लें| इसे पेट के कीड़े मारने में भी प्रयोग किया जा सकता है|

गरम, शुष्क तथा नशीले पदार्थों का सेवन न करें| जब पाखाना कुछ बंधकर आने लगे तो लौकी, टिण्डे या तरोई की सब्जी के साथ चोकर सहित आते की चपाती बनवाकर खाएं| प्रतिदिन हल्का व्यायाम करें और पेट पर पानी की धार छोड़ें| नीबू, अनार, केला, पपीता, अमरूद आदि फल थोड़ी मात्रा में लेते रहें|

अतिसार दस्त का कारण

यह रोग भोजन न पचने, दूषित भोजन करने, संक्रमण, आंतों में सूजन, पेचिश की बीमारी आदि से सम्बंधित है| यह ज्यादातर अजीर्ण के कारण हो जाता है| पेट में जमा हुआ मल आंतों से उखड़ कर बाहर निकलना चाहता है, किन्तु सड़न क्रिया के कारण वह पतले रूप में बाहर आता है|

अतिसार दस्त की पहचान

इस रोग में थोड़ी-थोड़ी देर के अन्तर से बार-बार पतला मल आता है| रोगी की बेचैनी बढ़ जाती है| पेट में दर्द, मरोड़, गुड़गुड़ाहट, खट्टी डकारें आदि लक्षण साफ-साफ दिखाई देते हैं|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏