🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँपैसे की थैली किसकी (बादशाह अकबर और बीरबल)

पैसे की थैली किसकी (बादशाह अकबर और बीरबल)

पैसे की थैली किसकी (बादशाह अकबर और बीरबल)

दरबार लगा हुआ था| बादशाह अकबर राज-काज देख रहे थे| तभी दरबान ने सूचना दी कि दो व्यक्ति अपने झगड़े का निपटारा करवाने के लिए आना चाहते हैं|

“पैसे की थैली किसकी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

बादशाह ने दोनों को बुलवा लिया| दोनों दरबार में आ गए और बादशाह के सामने झुककर खड़े हो गए|

“कहो क्या समस्या है तुम्हारी?” बादशाह ने पूछा|

“हुजूर, मेरा नाम काशी है, मैं तेली हूं और तेल बेचने का धंधा करता हूं; और हुजूर यह कसाई है| इसने मेरी दुकान पर आकर तेल खरीदा और साथ में मेरी पैसों की थैली भी ले गया| जब मैंने इसे पकड़ा और अपनी थैली मांगी तो यह उसे अपनी बताने लगा, हुजूर अब आप ही न्याय करें|”

“जरूर न्याय होगा, अब तुम कहो तुम्हें क्या कहना है?” बादशाह ने कसाई से कहा|

“हुजूर, मेरा नाम रमजान है और मैं कसाई हूं| हुजूर, जब मैंने अपनी दुकान पर आज के मांस की बिक्री के पैसे गिनकर थैली जैसे ही उठाई, यह तेली आ गया और मुझसे यह थैली छीन ली| अब उस पर अपना हक जमा रहा है, हुजूर, मुझ गरीब के पैसे वापस दिला दीजिए|”

दोनों की बातें सुनकर बादशाह सोच में पड़ गए| उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि वह किसके हक में फैसला दें| उन्होंने बीरबल से फैसला करने को कहा| बीरबल ने उससे पैसों की थैली ले ली और दोनों को कुछ देर के लिए बाहर भेज दिया|

बीरबल ने सेवक से एक कटोरे में पानी मंगवाया और उस थैली में से कुछ सिक्के निकालकर पानी में डाले और पानी की गौर से देखा| फिर बादशाह से कहा – “हुजूर, इस पानी में सिक्के डालने से तेल का जरा-सा भी अंश पानी में नहीं उभरा है| यदि यह सिक्के तेली के होते तो यकीनन उन सिक्कों पर तेल लगा होता और वह तेल पानी में भी दिखाई देता|”

बादशाह ने भी पानी में सिक्के डाले, पानी को गौर से देखा और बीरबल की बात से सहमत हो गए| बीरबल ने उन दोनों को दरबार में बुलवाया और कहा – “मुझे पता चल गया है कि यह थैली किसकी है| काशी, तुम झूठ बोल रहे हो, यह थैली रमजान कसाई की है|”

“हुजूर, यह थैली मेरी है|” काशी एक बार फिर बोला|

बीरबल ने सिक्के डले पानी वाला कटोरा उसे दिखाते हुए कहा – “यदि यह थैली तुम्हारी है तो इन सिक्कों पर कुछ-न-कुछ तो तेल अवश्य होना चाहिए, पर तुम भी देख लो… तेल तो अंश मात्र भी नजर नहीं आ रहा है|”

काशी चुप हो गया|

बीरबल ने रजमान कसाई को उसकी थैली दे दी और काशी को कारागार में डलवा दिया|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏