🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँबूढ़े शेर की चालाकी

बूढ़े शेर की चालाकी

बूढ़े शेर की चालाकी

एक शेर बहुत बूढ़ा, दुबला और कमजोर हो गया था| अब वह शिकार करने में असमर्थ था| उसने एक योजना बनायी| उसने चारों तरफ खबर फैला दी कि वह बहुत बीमार है और मरने के निकट है| वह आनेवालों की प्रतीक्षा करने लगा|

“बूढ़े शेर की चालाकी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

उसके प्रति सहानुभूति दिखाने जब भी कोई जानवर आता, वह ऐसा जताता कि वह न देख सकता है और न ठीक से सुन सकता है| जानवरों को वह अपने पास बुलाता और पास आने पर उन्हें मारकर खा जाता था| अपनी योजना की सफलता पर वह बहुत खुश था|

एक दिन एक चालाक लोमड़ी शेर से मिलाने आयी| किन्तु वह दूर ही खड़ी रही| उसने शेर के स्वास्थ्य के बारे में पूछताछ की| शेर ने उसे पास आने को कहा| लोमड़ी बोली, “आप पहले बता दें कि पाँव के निशान आपके पास तक हैं, मगर आते दिखायी नहीं देते?

यह कहकर लोमड़ी वापस चली दी|

शेर हाथ मलता रह गया|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏