🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

अपना-पराया

किसी होटल के मालिक ने एक लड़का नौकर रखा| उसकी उम्र अधिक नहीं थी| वह लड़का बड़ा भला और भोला था, बहुत ही ईमानदार और मेहनती था| एक दिन वह लड़का शीशे के गिलास धो रहा था|

“अपना-पराया” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

संयोग से एक गिलास उसके हाथ से फिसल गया और फर्श से टकराकर चूर-चूर हो गया| मालिक ने गिलास के गिरने और टूटने की आवाज सुनी तो दौड़ता हुआ आया और लाल-पिला होकर बोला – “क्यों रे बदमाश, यह क्या हुआ?”

बेचारा बालक वैसे ही डर रहा था, मालिक की भाव-भंगिमा देखकर उसके रहे-सहे होश भी गायब हो गए| अपने बचाव में वह कुछ कहे कि उससे पहले ही मालिक ने एक हाथ से कसकर उसका कान उमेठा और दूसरे से तड़ातड़ पांच-सात चांटे लगा दिए| बालक के मुंह से दबी हुई एक चीख निकलने को हुई, पर वह पी गया और कोई चारा भी तो नहीं था| मालिक ने दांत पीसते हुए उसे और उसकी सारी जमात को चुन-चुनकर गालियां दीं और जी भरकर उसे कोसा| फिर वह ज्योंही जाने को मुड़ा कि उसका लड़का आ गया| पिता के तमतमाए हुए चेहरे को देखकर वह उलटे पैरों लौटने को हुआ कि घबराहट में उसका पैर फिसल गया और प्लेटों की अलमारी पर गिरा| कई कीमती प्लेटें नीचे गिरकर टुकड़े-टुकड़े हो गईं| पिता ने दौड़कर अपने उस इकलौते बेटे को उठा लिया और प्यार से उसके सिर पर हाथ फेरते हुए बोला – “क्यों बेटे, तुम्हें चोट तो नहीं लगी?”

फिर प्लेटों के टुकड़ों की ओर देखकर बेटे को सांत्वना देते हुए कहा – “कोई बात नहीं है, ऐसा तो हो ही जाता है|”

कुछ कदम पर खड़े नौकर ने मालिक के चेहरे पर व्याप्त ममता को देखा और अपनी उम्र के उस लड़के पर निगाह डाली| अचानक उसने पाया कि उसके गालों पर पड़ी चांटों की मार जोर से कसक उठी है और रोकते-रोकते भी उसकी आंखों से आंसुओं की कई बड़ी-बड़ी बूंदें टपक पड़ीं| उसे भगवान ने छोटी उम्र में ही अपने पराए का भेद समझा दिया था|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏