🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँघोड़े की आजादी – शिक्षाप्रद कथा

घोड़े की आजादी – शिक्षाप्रद कथा

घोड़े की आजादी - शिक्षाप्रद कथा

घोड़े पहले दूसरे जंगली जानवरों की भांति जंगलों में रहा करते थे| दूसरे जानवरों की भांति उनका भी शिकार होता था|
एक बार जंगल से एक घोड़ा एक किसान के पास आया और कहने लगा, “भाई, मेरी मदद करो| जंगल में एक बाघ आ गया है| वह मुझे मार डालना चाहता है|”

किसान को घोड़े पर तरस आ गया|

किसान ने कहा, “अरे मित्र, चिंता मत करो! वह बाघ तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ सकता| बाघ से तुम्हारी रक्षा मैं करूंगा| मगर तुम्हें मेरा कहा मानना होगा|”

घोड़ा बिना सोचे-समझे तैयार हो गया|

“मुझे क्या करना होगा?” डरते-डरते घोड़े ने पूछा|

“तुम्हें मेरा कहा मानना होगा| जैसा मैं कहूं वैसा करना होगा|” किसान ने कहा|

“तुम जो चाहो, सो करो| पर कृपा करके मुझे उस बाघ से बचा लो|”

किसान ने उसके गले में रस्सी डाली और अपने घर ले आया|

“अब तुम एकदम सुरक्षित हो| जब मैं तुम्हें बाहर ले जाऊंगा, तब मैं तुम्हारी पीठ पर सवार रहूंगा| मैं तुम्हारे साथ रहूंगा, तो बाघ तुम्हारा कुछ भी नहीं बिगाड़ सकेगा|”

“ठीक है| मगर क्या यहां मुझे खाना भी मिलेगा?”

“बिल्कुल मिलेगा| मैं तुम्हें ताज़ी घास और चने खिलाया करूंगा|”

किसान की बात सुनकर थोड़ा खुश हो गया|

अब किसान ने उस पर सवारी करनी शुरू की| गले में लगाम और पीठ पर काठी भी कसवा दी|

इस नए जीवन को पाकर घोड़ा अपने आपको धन्य समझने लगा|

मगर कुछ ही दिन में घोड़े को लगने लगा कि यह मैं कहां आ फंसा|

उसने मन ही मन सोचा कि मैं यहां सुरक्षित जरूर हूं, पर स्वतंत्र नहीं हूं| मैंने सुरक्षा प्राप्त की, पर अपनी आजादी गंवा दी|

यह तो बहुत बुरा सौदा हुआ| पर अब मैं मजबूर हूं| बिना सोचे-समझे मैंने एक शिकार के डर की वजह से ऐसा करार कर लिया| काश! उस दिन मैं इतना न डर गया होता और साहस से काम लेकर स्वयं अपनी रक्षा करता तो आज गुलाम न होता और उस दिन से आज तक घोड़ा इंसानों का गुलाम है|

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏