🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँचालाक लोमड़ी – शिक्षाप्रद कथा

चालाक लोमड़ी – शिक्षाप्रद कथा

चालाक लोमड़ी - शिक्षाप्रद कथा

एक दिन एक कौआ पेड़ की ऊंची डाल पर बैठा रोटी खा रहा था| एक लोमड़ी ने उसे देखा तो उसके मुंह में पानी भर आया| उसने सोचा कि किसी प्रकार कौए से रोटी हड़पनी चाहिए|
लोमड़ी की चालाकी तो जगप्रसिद्ध है|

उसने झटपट एक योजना बनाई और उसी पेड़ के नीचे आ पहुंची|

उसने कौए की ओर देखकर कहा, “कौए भइया! राम-राम| आप अच्छे तो हैं?”

कौए ने कोई जवाब नहीं दिया|

लोमड़ी फिर बोली, “कौए भइया, आज तो आप बहुत चमकदार और सुंदर लग रहे हैं| आपकी तो वाणी भी मधुर है, आप तो पक्षियों के राजा बनने के योग्य हैं| मगर जंगल के इन मुर्ख पक्षियों को कौन समझाए? जरा मुझे अपनी मीठी आवाज में एक गीत तो सुनाइए|”

अपनी झूठी तारीफ सुनकर मुर्ख कौआ घमंड में आ गया और बोला – “धन्य…|” उसने जैसे ही धन्यवाद देने के लिए अपनी चोंच खोली वैसे ही रोटी नीचे आ गिरी|

लोमड़ी ने लपककर रोटी उठाई और पलक झपकते ही नौ दो ग्यारह हो गई|

मूर्ख कौआ ताकता रह गया|

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏