Homeभजन संग्रहविविध भजनतोरा मन दर्पण कहलाये

तोरा मन दर्पण कहलाये

भजन - विविध भजन

तोरा मन दर्पण कहलाये –  २
भले बुरे सारे कर्मों को, देखे और दिखाये
तोरा मन दर्पण कहलाये –  २

मन ही देवता, मन ही ईश्वर, मन से बड़ा न कोय
मन उजियारा जब जब फैले, जग उजियारा होय
इस उजले दर्पण पे प्राणी, धूल न जमने पाये
तोरा मन दर्पण कहलाये –  २

सुख की कलियाँ, दुख के कांटे, मन सबका आधार
मन से कोई बात छुपे ना, मन के नैन हज़ार
जग से चाहे भाग लो कोई, मन से भाग न पाये
तोरा मन दर्पण कहलाये –  २

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

न मैं धन
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏