🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेबीमारीयों के लक्षण व उपचारस्तनों में दूध की कमी के 11 घरेलु उपचार – 11 Homemade Remedies for Lack of Breast Milk

स्तनों में दूध की कमी के 11 घरेलु उपचार – 11 Homemade Remedies for Lack of Breast Milk

नवजात शिशु माता के दुग्ध पर ही अपना भरण-पोषण करता है| लेकिन कभी-कभी किन्हीं कारणों से माता के स्तनों में पर्याप्त दुग्ध का निर्माण नहीं हो पाता| ऐसे में माता को चिंताएं घेर लेती हैं|

“स्तनों में दूध की कमी के 11  घरेलु उपचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Homemade Remedies for Lack of Breast Milk Listen Audio

स्तनों में दूध की कमी के 11 घरेलु नुस्खे इस प्रकार हैं:

1. जीरा, दूध और देशी खांड़

भुना जीरा आधा चम्मच तथा देशी खांड़ दो चम्मच – दोनों को पीसकर दूध के साथ सेवन करें| शीघ्र ही स्तनों में अधिक दूध उतरने लगेगा|


2. तिल और दूध

250 ग्राम धुले तिल को कूट-पीसकर रख लें| इसमें से दो चम्मच सुबह तथा दो चम्मच शाम को दूध के साथ लें| इससे दूध की वृद्धि अवश्य होगी|


3. पपीता

नियमित रूप से पका हुआ पपीता खाने से स्तनों में दूध बढ़ जाता है|


4. एरण्ड

स्तनों पर कुछ दिनों तक एरण्ड के तेल की मालिश करनी चाहिए|


5. नीम और पानी

नीम की थोड़ी-सी छाल को पानी में उबालकर एक सप्ताह तक पिएं| स्तनों में दूध की वृद्धि अवश्य होगी|


6. गन्ना और गाजर

गन्ने की जड़ धोकर सुखा-पीस लें| फिर काली गाजर के हलवे में मिलाकर सेवन करें|


7. चुकन्दर

नियमित रूप से चुकन्दर खाने से माता को अधिक मात्रा में दूध उतरने लगता है|


8. जीरा, सौंफ और मिश्री

सफेद जीरा, सौंफ तथा मिश्री – तीनों का दो चम्मच चूर्ण लेकर तीन खुराक बनाएं| इसका सेवन सुबह, दोपहर और शाम को करें|


9. गाजर

एक कप गाजर का रस प्रतिदिन पीने से स्तन दुग्धमय हो जाते हैं|


10. सौंफ, मधु, शतावर, विदारीकंद और गाय का दूध

सौंफ, मधु, शतावर तथा विदारीकंद – सभी 5-5 ग्राम लेकर पीस डालें| फिर इसमें से 3 ग्राम चूर्ण कुछ दिनों तक गाय के दूध के साथ लें|


11. प्याज और दूध

भोजन के साथ कच्चे प्याज का सेवन करने से भी छाती में दूध की मात्रा बढ़ जाती है|

 

स्तनों में दूध की कमी का कारण

शरीर स्वस्थ न रहने के कारण किसी-किसी प्रसूता के स्तनों में बहुत कम दूध उतरता है| ऐसी हालत में नवजात शिशु को उचित मात्रा में दूध नहीं मिल पाता| भूखा रहने के कारण शिशु रोता रहता है| इससे उसके स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव नहीं पड़ता| वह कमजोर रह जाता है|

स्तनों में दूध की कमी की पहचान

जिन माताओं के स्तनों में दूध पर्याप्त मात्रा में नहीं उतरता, उन्हें मजबूरन डिब्बे या गाय का दूध बच्चे को देना पड़ता है| लेकिन कभी-कभी ये दूध बच्चे मुंह से नहीं लगाते| बच्चा मां का दूध ही पीना चाहता है| तब उसका पेट नहीं भरता तो वह निप्पल को जबड़ों से भींचने लगता है|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏