🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँताड़ से गिरे खजूर में अटके – शिक्षाप्रद कथा

ताड़ से गिरे खजूर में अटके – शिक्षाप्रद कथा

ताड़ से गिरे खजूर में अटके - शिक्षाप्रद कथा

एक बार एक बगुले ने अपने बच्चों को गिद्धों से बचाने के लिए अपना घोंसला बदल दिया| उसने अपना नया घोंसला नदी के किनारे बनाया| अब वह स्वयं को सुरक्षित समझ रहा था, क्योंकि उसके नए घोंसले का पता गिद्धों या बहेलियों को नहीं था|

परंतु एक दिन वहां भी एक अनदेखी मुसीबत आ गई| जब वह अपने तथा अपने बच्चों के लिए मछलियां पकड़ने गया हुआ था तभी बाढ़ से उफनती नदी की एक लहर आई और उसके घोंसले को बहा कर ले गई, जब बगुला लौट कर आया तो देखा, उसका घोंसला और बच्चे लापता थे| बेचारा फूट-फूट कर रोने लगा| उसने सोचा – ‘मैंने गिद्धों ओअर बहेलियों से अपने बच्चों को बचाने के लिए एक नए स्थान पर अपना घोंसला बनाया| मगर मैं तो ताड़ से गिरकर खजूर पर अटक गया| काश वर्षा ऋतू में बाढ़ से उफनती नदी के किनारे घोंसला बनाने से पहले मैंने अच्छी प्रकार सोच-विचार किया होता!’

मगर जो हो गया, उसे बदला नहीं जा सकता| निराश बगुला कुछ देर वहीं खड़ा कलपता रहा, फिर वापस चला गया और कभी लौटकर नहीं आया|

शिक्षा: व्यक्ति शत्रु से बच सकता है, मृत्यु से नहीं|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏