🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँमेंढ़क की सीख – शिक्षाप्रद कथा

मेंढ़क की सीख – शिक्षाप्रद कथा

मेंढ़क की सीख - शिक्षाप्रद कथा

किसी गांव में कुछ शरारती लड़के रहते थे| एक दिन वे गांव के एक तालाब में मेंढकों पर पत्थर फेंक कर खेल का आनन्द ले रहे थे| जैसे ही मेंढ़क पानी की सतह पर आते, लकड़े उनको पत्थरों से मारते| मेंढकों को घायल होकर मरता देखकर उन्हें बहुत प्रसन्नता होती और वे तालियां बजाते|
बहुत बड़ी संख्या में मेंढकों को घायल होते और मरते देखकर मेंढकों का सरदार परेशान हो गया| उसने हिम्मत जुटाई और तालाब से बाहर आकर बच्चों से बोला – “बच्चों, तुम क्या कोई दूसरा खेल नहीं खेल सकते? शायद तुम लोगों को हमारी परेशानी की जानकारी नहीं है| जिस काम को तुम खेल समझते हो वह हमारे लिए मृत्यु है| इसलिए अच्छे बच्चो! कोई और खेल खेलो|”

शिक्षा: जीव हत्या खेल नहीं पाप है, इससे बचना चाहिए|

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏