🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँविश्वामित्र के माया जाल से बेखबर

विश्वामित्र के माया जाल से बेखबर

विश्वामित्र के माया जाल से बेखबर

विश्वामित्र से अनुमति लेकर राजा हरिश्चंद्र सैनिको के साथ अपनी राजधानी की ओर चल पड़े|

“विश्वामित्र के माया जाल से बेखबर” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

राजा हरिश्चंद्र के चले जाने के बाद ब्राह्मण बने विश्वामित्र अपने असली रूप में आ  गए|उनके होठों पर व्यंभरी मुस्कान फैल गई|वह मन ही मन सोचने लगे, ‘अब देखता हूं हरिश्चंद्र, तू कितना बड़ा दानी और सत्यवादी है| कोई बात कह देना जितना सहज है, उस पर अमल करना उतना ही कठिन होता है| साधरण महापुरुषो में यही तो अंतर होता है| साधारण लोग जहां कठिनाईयों के सामने आने पर विचलित हो जाते है, वहीँ  महापुरुष यदि स्वप्न में कोई बात धर्मानुकूल कह बैठते हैं, तो उससे तनिक भी विचलित  नही होते| ऐसे लोग धर्म को ही सत्य मानते हैं और सत्याचरण को ही धर्म कहकर पुकारते हैं|अब देखूंगा की तेरा सत्य-धर्म क्या कहता है?’

राजा हरिश्चंद्र के दुखों और महर्षि वशिष्ठ की पराजय की कल्पना कर विश्वामित्र जोर-जोर से हंसने लगे| उनके इस व्यवहार से उनके शिष्य आश्चर्यचकित हो गए|

उधर हरिश्चंद्र को स्वप्न में भी यह ध्यान नहीं आया कि विश्वामित्र ने उनके साथ छल किया है|

धर्म का
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏