🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँविश्वामित्र का राज्य सभा में प्रवेश

विश्वामित्र का राज्य सभा में प्रवेश

विश्वामित्र का राज्य सभा में प्रवेश

अगले दिन जैसे ही राजा हरिश्चंद्र राज्य दरबार में अपने सिंहासन पर बैठे, विश्वामित्र ने प्रवेश किया| राजा ने स्वयं महर्षिकी अगवानी की|सभासदों ने खड़े होकर उनका स्वागत किया| विश्वामित्र ने कहा, “राजन! मुझे पहचाना?

“विश्वामित्र का राज्य सभा में प्रवेश” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

कल वन में ब्राह्मण वेश में ही तुमसे मिला था और तुमने मेरा पुत्र के विवाह में अपना सम्पूर्ण राज्य मुझे दे दिया था| तुम बड़े ही धार्मिक और सत्यवादी राजा हो|अपने वचना का पालन करो|

यह राज्य छोड़ दो और दान के साथ दी जाने वाली मेरी ढाई भार सोने की दक्षिणा भी मुझे दो|”

हरिश्चंद्र ने हाथ जोड़कर कहा, “भगवन ! राज्य आपका ही है| इसे मैंने आपको दिया| रहा ढाई भार सोना, वह मै अभी आपको मंगाए देता हूं|”

“वाह! वह सोना तुम कहां से लाओगे? “राजकोष तथा एस राज्य की प्रत्येक वस्तु पर तो अब मेरा अधिकार है| ऐसा करके क्या तुम मुझसे कपट नहीं कर रहे?”

🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏