🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँसच्चे चिकित्सक

सच्चे चिकित्सक

सच्चे चिकित्सक

डॉक्टर दुर्गाचरण नाग बड़े ही सह्रदय चिकित्सक थे| वह न केवल मोहल्ले के रोगियों की चिकित्सा करते थे, अपितु यह भी देखते रहते थे कि उनका कोई पड़ोसी, मोहल्ले का कोई व्यक्ति भूखा, नंगा या रोगी तो नहीं है?

“सच्चे चिकित्सक” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

वह अपनी क्षमता और ताकत के अनुसार भूखों को अनाज, नंगो को वस्त्र रोगियों को दवाई देते रहते थे| गरीब रोगियों से फीस का तो सवाल ही नहीं था, वह उनकी खुराक का खर्चा भी स्वयं दे देते थे| एक दिन एक छोटे से बच्चे को हैजा हो गया| डॉक्टर नाग दिन-भर बच्चे की चिकित्सा में व्यस्त रहेँ पर बच्चे को बचाया न जा सका शाम कोडॉक्टर नग दिनभर बच्चे की चिकित्सा में व्यस्त रहे, पर बच्चे को बचाया न जा सका|

शाम को बहुत देर से जब वह घर लौटे, तब घरवालों ने सोचा कि आज तो डॉक्टर साहब बड़ी फीस लेकर आए होंगे; परंतु उन्होंने देखा- डॉक्टर नाग बहुत ही दुःखी थे| वह आकर बोले- “ग्रहस्थ में एक ही बच्चा था, सब जतन करके भी उसे बचाया न जा सका| वह घर ही सुना हो गया|”

डॉक्टर नाग ने उस रात भोजन तक नहीं किया; उस परिवार के दुःख में वह द्रवित हो गए| वह वास्तव में सच्चे चिकित्सक थे; हमेशा दूसरों के दुःख कष्ट के प्रति संवेदनशील थे| इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि हमेशा प्रत्येक व्यक्ति को दूसरों के दुःख दर्द को अपना दुःख समझना चाहिए|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏