🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँश्रीरामचंद्र जी की अयोध्या वापसी

श्रीरामचंद्र जी की अयोध्या वापसी

श्रीरामचंद्र जी की अयोध्या वापसी

जब श्रीरामचंद्र जी लंका से वापस आए तो इसी अमावस्या को उनका राजतिलक किया गया था। अयोध्या के राजा दशरथ के चार पुत्र थे- राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न। श्रीराम को उनकी माता कैकेयी की माँग पर राजा ने १४ वर्ष का वनवास दिया।

“श्रीरामचंद्र जी की अयोध्या वापसी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

पिता की आज्ञा शिरोधार्य कर श्रीराम ने अपने भाई लक्ष्मण तथा पत्नी श्रीसीता सहित वनवास ग्रहण किया।

वन में रावण नामक महा शक्तिशाली राक्षसराज ने जानकी जी का हरण कर लिया। श्रीराम जी भाई लक्ष्मण सहित किष्किंधा पहुँचे और सुग्रीव की सहायता से बजरंग बली हनुमान द्वारा सीता जी की खोज करवाई। सीता जी का पता चलने पर प्रभु श्रीराम ने वानर-भालुओं की सेना तैयार की और लंका की ओर प्रस्थान किया। समुद्र पर पुल बाँध वे लंका में प्रवेश किया और कुंभकर्ण, मेघनाद, रावण आदि का संहार हुआ। श्रीराम ने लंका का राज्य जीतकर रावण के भाई विभीषण को दे दिया और स्वयं चौदह वर्ष पूरे हो जाने पर भगवती सीता, लक्ष्मण, हनुमान, सुग्रीव, जांबवान, अंगद आदि के साथ पुष्पक विमान पर बैठकर अयोध्या वापस लौटे। उनके वापस लौटने की खुशी में अयोध्या वासियों ने घी के दीये जलाए और दीपावली मनाई।

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏