🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

शिष्टाचार

शिष्टाचार

सवाल उठते है कि आदमी किस प्रकार शिष्ट अथवा सज्जन बन सकता है? एक सीख तो यही है कि शिष्टों या सज्जनों का अनुसरण किया जाए तो व्यक्ति सज्जन बन सकता है|

“शिष्टाचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

दूसरी ओर यह भी कहा जाता है कि यदि व्यक्ति अकलमंदी से कार्य तो मूर्खों से भी शिष्टाचार सीख सकता है|

एक बार किसी जिज्ञासु ने अपने समय के सर्वश्रेष्ठ चिकित्सक एवं साधु पुरुष हकीम लुकमान से पूछा- “आपने शिष्टाचार कहाँ से सीखा?” हकीम लुकमान का जवाब था- “यह तहजीब मैंने मूर्खों से सीखी|” इस पर सवाल करने वाला पूछ बैठा- “मूर्खों से हम कैसे सीख सकते हैं?” हकीम लुकमान का उत्तर था- “उनकी जो बात समझ में नहीं आई, वह छोड़ दी|”

हम भी शिष्टाचार या कोई भी गुण उसी स्थिति में सीख सकते हैं जब दूसरों की बुराइयों या दुर्गुणों को देखने की बजाय, केवल दूसरों के सद्गुणों को देखें| संभवतः यही कारण था कि गांधी जी अपने एक जापानी सज्जन द्वारा दिए तीन बंदरों की मूर्ति अपने सामने रखते थे| वे तीन बंदर अपने हाथों का इशारा करते हुए मानो कहते थे-

“कभी बुरा न सुनो, कभी बुरा न देखो और कभी बुरा न कहो|”

इस कहानी से हमें यह सीख लेनी चाहिए कि प्रत्येक मनुष्य को अपनी कमियों व दूसरों की खूबियों को नजर में रखना चाहिए|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏