🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँकेले के छिलके और श्रीकृष्ण

केले के छिलके और श्रीकृष्ण

केले के छिलके और श्रीकृष्ण

एक बार श्रीकृष्ण विदुर से मिलने हस्तिनापुर गये| विदुर घर में थे नहीं| उनकी पत्नी थी| कृष्ण ने चरण छुए| वे गद्गद् विह्वल हो गयी| उन्हें कुछ सुझा नहीं कि वे क्या करे? कहाँ बैठावें? वे तेजी से अन्दर गयीं| झटपट कुछ केले लेकर लौटीं|

“केले के छिलके और श्रीकृष्ण” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

अपने ऊचें आसन पर बैठीं| कृष्ण को पाँव के पास बैठने के लिए कहा| श्रीकृष्ण बैठ गये|

विदुर की पत्नी कृष्ण के प्रेम में लीन हो थीं| उनकी अनुभूति समाप्त हो गयी थी| कुछ ज्ञान नहीं रह गया था| वे केले छीलकर गुदा फेकने लगीं और छिलके कृष्ण को खाने के लिए देने लगीं| कृष्ण उसे ही प्रेम से खाते रहे| वे छिलके खा रहे थे और उस गूदे की तरफ देखा भी नहीं जिन्हें वे फेंकती जा रही थीं|

तभी विदुर आये| यह तमाशा देखकर  भौंचक्के रह गये| कृष्ण से कहा, “छिलके न खाओ, हानिकारक है, पचेंगे नहीं| “श्रीकृष्ण मुस्काए, बोले, “माँ के दिये हुए हैं| अमृत हैं|”

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏