🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँहरिश्चंद्र ने मांगा श्मशान-कर

हरिश्चंद्र ने मांगा श्मशान-कर

हरिश्चंद्र ने मांगा श्मशान-कर

रानी अपने पुत्र को बांहों में उठाकर श्मशान में पहुंची| वंहा पहुंचकर उसके सामने यह समस्या पैदा हो गई कि वह अपने पुत्र का शवदाह कैसे करे| विवश होकर उसने अपनी आधी साड़ी फाड़ी और उसी में अपने पुत्र का शव लपेटकर चिता की ओर बढ़ी|

“हरिश्चंद्र ने मांगा श्मशान-कर” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

लेकिन तभी चाण्डाल के सेवक बने हरिश्चंद्र ने उसे रोका और कहा, “देवी, बिना श्मशान का कर चुकाए तुम इस मुर्दे को यंहा नहीं जला सकतीं|”

अपनी पति का स्वर पहचानकर रानी ने सिर उठाया| हरिश्चंद्र ने भी उसे तत्काल पहचान लिया| पुत्र के शव पर निगाह डालते ही दुःख से उनका  हृदय फट पड़ा|

“देखते क्या हो गया स्वामी? यह आप का ही पुत्र है|” रानी ने रोते हुए सारी घटना सुना दी|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏