🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏

अनन्त इच्छा

एक बार की बात है, एक राजा अपने देश के पड़ोस में सैर के लिए निकला | उसने देखा वहां की धरती बहुत उपजाऊ थी, चारों ओर फसलें लहलहा रही थीं | राजा मन में सोचने लगा कि कितना अच्छा होता यदि वह सुंदर और उपजाऊ क्षेत्र उसके राज्य में होता और वह उसका मालिक होता |

“अनन्त इच्छा” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

उसी देश में एक धनी व्यक्ति रहता था | वह अपने कार्य में इतना अधिक व्यस्त रहता था कि उसे बाहर निकलने व घूमने-फिरने की फुर्सत ही नहीं होती थी | उसका लंबा-चौड़ा कारोबार था, ढेरों नौकर-चाकर थे और बड़े-से मकान में रहता था | वह भी उस दिन बाहर सैर करने निकला | वहीं पर एक अत्यंत खूबसूरत महल बना था |

धनी व्यक्ति सोचने लगा कि कितना सुंदर महल है, इसके बाहरी खंबे किसी बड़े कलाकार द्वारा बनाए हुए प्रतीत होते हैं | क्या ही अच्छा होता यदि वह उस मकान का भी मालिक होता |

उसी महल में एक सुंदर राजकुमारी रहती थी | उस दिन वह महल की खिड़की पर खड़ी थी | तभी घोड़े पर सवार एक सुंदर नौजवान उसने जाता हुआ देखा | राजकुमारी की इच्छा होने लगी, काश, उसे भी ऐसा ही प्यारा नौजवान मिलता जिसके साथ वह अपना विवाह रचाती |

महल में एक कुत्ता रहता था | उसने महल के बाहर के कुत्तों को सड़क पर दौड़ लगाते हुए देखा | वह सोचने लगा कि कितना अच्छा होता कि वह भी आजाद होता और सड़कों पर अपनी इच्छा से इधर से उधर फिरता |

एक बरामदे में एक बिल्ली बैठी हुई धूप का आनंद ले रही थी | सर्दी की गुनगुनाती धूप में उसे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था | तभी उसके सामने से एक चूहा निकलकर तेजी से भागा | बिल्ली झटपट उठ बैठी और चूहे के पीछे दौड़ पड़ी | परंतु चूहा तब तक अपने बिल में घुस चुका था | बिल्ली सोचने लगी कि कितना अच्छा होता यदि मैं यह चूहा पकड़ लेती, फिर बड़े आराम से इसे मारकर खाती |

चूहा बिल में से निकलकर रसोई की तरफ चला गया | वहां एक बरतन में बहुत सारी मिठाइयां रखी थीं | चूहा मिठाई देखकर सोचने लगा कि काश उसे जी भरकर मिठाई खाने को मिलती |

उस दिन एक परी आकाश में घूम रही थी | उसने सभी छह लोगों की इच्छाएं सुनीं | उसे महसूस हुआ कि ये लोग कुछ मांग रहे हैं | क्यों न इनकी ये इच्छाएं पूरी कर दी जाएं, उसने सभी छह लोगों की इच्छाएं पूरी कर दीं |

इसके पश्चात् वह परीलोक वापस चलि गई | कुछ दिन बाद वह पुन: सैर करने निकली | उसे यह देखकर बड़ी हैरानी हुई कि जिन छह लोगों की इच्छाएं उसने पूरी की थीं, उन सभी की अनेक नई इच्छाएं जन्म ले चुकी थीं |

राजा अधिक शक्तिशाली बनने के लिए किसी नए प्रदेश को अपने राज्य में मिलाना चाहता था | धनी व्यक्ति अधिक दौलत कमाकर अनेक नए भवनों का मालिक बनना चाहता था | राजकुमारी विवाह के पश्चात् अपने पति व भविष्य में होने वाले बच्चे के संबंध में ढेरों इच्छाएं रखने लगी थी | कुत्ता बाहर जाकर परेशान था, वह अपने मालिक के पास वापस जाना चाहता था | बिल्ली और अधिक चूहे खाना चाहती थी | केवल एक चूहा था जो बिल्ली की इच्छा के कारण बिल्ली के पेट में का चुका था | मृत्यु के कारण चूहे की इच्छाएं समाप्त हो गई थीं |

परी को एहसास हुआ कि हर जीवित प्राणी की अनन्त इच्छाएं जन्म लेती रहती हैं, और वे तब तक समाप्त नहीं होतीं जब तक उसकी मृत्यु नहीं हो जाती | अब उसने किसी की भी इच्छा पूरी करने का इरादा छोड़ दिया और स्वयं घूमने के लिए आगे निकल गई |

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏