🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏

धोखे की सजा

धोखे की सजा

एक बार एक गधे और लोमड़ी में मित्रता हो गयी| वे बराबर साथ देखे जाते| गधे उसे कभी चूजे दिखा देता और लोमड़ी उसे हरा-भरा खेत दिखाती| एक दिन उन्होंने एक शेर को देख लिया| गधे ने पहले देखा और भय से कांपने लगा| लोमड़ी ने उसे सुरक्षा का आश्वासन दिया|

“धोखे की सजा” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

शेर से जाकर लोमड़ी ने कहा, “अगर मुझे आप छोड़ दें, तब मैं गधे को फँसा दूँ|” शेर ने हामी भरी|

फिर लोमड़ी गधे से बोली, “शेर ने हमें छोड़ देना स्वीकार कर लिया है| लेकिन उसका मन बदल सकता है| तबतक हम उस गड्ढे में छिप जाते हैं|” लोमड़ी के यह कहते ही गधा गड्ढे में प्रवेश कर गया|

लोमड़ी ने जाकर शेर से कहा, मैंने अपनी बात पूरी कर दी| क्या अब मै जाऊं?” शेर बोला, “नहीं, तुमने मित्र को धोका दिया है| तुम्हे इसकी सजा मिलेगी ही|” और उसने लोमड़ी को पहले मारा|

🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏