Homeशिक्षाप्रद कथाएँबादशाह हंस पड़े (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह हंस पड़े (बादशाह अकबर और बीरबल)

कभी-कभी बादशाह अकबर दरबार में जब हंसी-मजाक के मूड में होते तो उल-जलूल सवाल पूछ लिया करते थे| इसी कड़ी में एक दिन बादशाह ने कहा – “आज मेरा हंसने का बहुत मन कर रहा है, अगर कोई मुझे हंसा देगा तो मैं उसे सौ मोहरें इनाम में दूंगा लेकिन अगर नहीं हंसा पाया तो पचास मोहरें के तौर पर देनी होंगी|”

“बादशाह हंस पड़े” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

कई दरबारियों ने बादशाह को एक से एक चुटकले सुनाए… पर बादशाह न हंसे, बेचारे हर्जाना भरकर बैठ गए| तब बीरबल आगे आकर बादशाह के कान में बोला – “हुजूर, अब हंस भी दीजिए…नहीं तो पेट में गुदगुदी कर दूंगा|”

पेट में गुदगुदी के नाम से ही बादशाह अकबर की हंसी छूट गई|

सभी दरबारी हैरानी से बादशाह अकबर और बीरबल को देखने लगे|

🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏