🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँअंतरात्मा की आवाज

अंतरात्मा की आवाज

एक सेठ थे| उनके पास लाखों रुपए की संपत्ति थी| बड़े हवेली थी, देश-विदेश में फैला कारोबार था, तिजोरियां में बंद पैसा था| एक दिन एक महानुभाव उनसे मिलने आए| बातचीत में उन्होंने कहा – “सेठजी, अब तो महंगाई बेहिसाब बढ़ गई है| चीजों के दाम दुगने हो गए हैं| आपकी संपत्ति भी बढ़कर अब करोड़ों रुपए की हो गई है|”

“अंतरात्मा की आवाज” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

सेठ ने गंभीरता से उनकी ओर देखा, फिर बोले – “मेरी संपत्ति करोड़ों रुपए की!”
उन महानुभाव ने मुस्कराकर कहा – “सेठजी, आप घबराइए नहीं, मैं राजस्व विभाग का आदमी नहीं हूं| मैंने तो सहजभाव से कह दिया था कि चीजों के दाम बढ़े हैं तो आपकी जमीन-जायदाद के दाम भी बढ़ गए होंगे|”

सेठ बहुत ही धार्मिक प्रवृत्ति के आदमी थे| विरक्त भाव से उन्होंने कहा – “मेरी संपत्ति है कहां! जिसे तुम मेरी संपत्ति कहते हो, वह मेरी कहां है? जिसे मैंने दूसरों की भलाई के लिए खर्च किया, वही संपत्ति मेरी थी| अब जो बची है, उसका मैं स्वामी नहीं, न्यासी हूं| वह संपत्ति समाज की है| उसमें से मैं जितना खर्च करूंगा उतनी मेरी हो जाएगी|”

महानुभाव आगे कुछ नहीं कह सके| सेठ ने जो कहा था, वह उनकी अंतरात्मा की आवाज थी|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏