🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँकछुआ गुरु – शिक्षाप्रद कथा

कछुआ गुरु – शिक्षाप्रद कथा

कछुआ गुरु - शिक्षाप्रद कथा

एक बूढ़े आदमी थे| गंगा-किनारे रहते थे| उन्होंने एक झोपड़ी बना ली थी| झोपड़ी में एक तख्ता था, जल से भरा मिट्टी का एक घड़ा रहता था और उन्होंने एक कछुआ पाल रखा था| पास की बस्ती में दोपहर में रोटी माँगने जाते तो थोड़े चने भी माँग लाते| वे कछुए को भीगे चने खिलाया करते थे|

एक दिन किसी ने पूछा – ‘आपने यह क्या गंदा जीव पाल रखा है, फेंक दीजिये इसे गंगाजी में|’

बूढ़े बाबा बड़े बिगड़े| वे कहने लगे – ‘तुम मेरे गुरु – बाबा का अपमान करते हो? देखते नहीं कि तनिक-सी आहट पाकर या किसी के साधारण स्पर्श से वे अपने सब अंग भीतर खींचकर कैसे गुड़मुड़ी हो जाते हैं| चाहे जितना हिलाओ – डुलाओ, वे एक पैरतक न हिलायेंगे|

‘इससे क्या हो गया?’ उसने पूछा|

‘हो क्यों नहीं गया!’ मनुष्य को भी इसी प्रकार सावधान रहना चाहिये, लोभ-लालच और भीड़-भाड़ में नेत्र मूँदकर राम-राम करना चाहिये|

सच्ची बात तो यह है कि वे किसी को देखते ही भाग कर झोपड़ी में घुस जाते थे और जोर-जोर-से ‘राम-राम’ बोलने लगते| पुकारने पर बोलते ही नहीं थे| आज पता नहीं, कैसे बोल रहे थे|

उस आदमी ने कहा – ‘चाहे जो हो, यह बड़ा घिनौना दीखता है|’

बूढ़े बाबा ने कहा – ‘इससे क्या हो गया| अपने परम लाभ के लिये तो नीच से भी प्रेम किया जाता है|’

वे कछुए को हथेली पर उठाकर पुचकारने लगे और गाने लगे –

‘अति नीचहु सन प्रीति करिअ जानि निज परम हित||’

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏