🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeभक्त तुलसीदास जी दोहावलीप्रार्थना – भक्त तुलसीदास जी दोहावली

प्रार्थना – भक्त तुलसीदास जी दोहावली

प्रार्थना

बारक सुमिरत तोहि होहि तिन्हहि सम्मुख सुखद|
क्यों न संभारहि मोहि दया सिंधु दसरत्थ के||

प्रस्तुत दोहे में तुलसीदासजी कहते हैं कि हे दया के सागर दशरथनंदन ! जो तुम्हें एक बार भी स्मरण करते हैं, तुम उनके सम्मुख होकर उन्हें सदा सुख देने वाले बन जाते हो, फिर मेरी सुधि तुम क्यों नहीं लेते?

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏