🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeभक्त तुलसीदास जी दोहावलीअभिमान ही बंधन का मूल है – भक्त तुलसीदास जी दोहावली

अभिमान ही बंधन का मूल है – भक्त तुलसीदास जी दोहावली

हम हमार आचार बड़ भूरि भार धरि सीस|
हठि सठ परबस परत जिमि कीर कोस कृमि कीस||

प्रस्तुत दोहे में तुलसीदासजी कहते हैं कि ‘हम बड़े हैं और हमारा आचार श्रेष्ठ है’, ऐसे अभिमान का भारी बोझ सिर पर रखकर मूर्ख लोग तोते, रेशम के कीड़े और बंदर की तरह पराधीन हो जाते हैं|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏