🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeभक्त तुलसीदास जी दोहावलीध्यान – भक्त तुलसीदास जी दोहावली

ध्यान – भक्त तुलसीदास जी दोहावली

ध्यान

राम बाम दिसि जानकी लखन दाहिनी ओर|
ध्यान सकल कल्यानमय सुरतरु तुलसी तोर||

प्रस्तुत दोहे में तुलसीदासजी कहते हैं कि प्रभु श्रीरामजी के बाईं ओर श्रीजानकीजी हैं और दाईं ओर श्रीलक्ष्मणजी हैं – यह ध्यान सम्पुर्ण रूप से कल्याणमय  है| हे तुलसी ! तेरे लिए तो यह मनचाहा फल देने वाला कल्पवृक्ष ही है|

सीता लखन समेत प्रभु सोहत तुलसीदास|
हरषत सुर बरषत सुमन सगुन सुमंगल  बास||

प्रस्तुत दोहे में तुलसीदासजी कहते हैं कि भगवान श्रीरामजी श्रीसीताजी एवं श्रीलक्ष्मणजी के साथ सुशोभित हो रहे हैं, देवतागण हर्षित होकर फूलों की वर्षा कर रहे हैं| प्रभु का यह सगुण ध्यान सुमंगल-परम कल्याण का निवास स्थान है|

पंचबटी बट बिटप तर सीता लखन समेत|
सोहत तुलसीदास प्रभु सकल सुमंगल देत||

प्रस्तुत दोहे में तुलसीदासजी कहते हैं कि पंचवटी में वट वृक्ष के नीचे भगवान श्रीरामचंद्रजी श्रीसीताजी और श्रीलक्ष्मणजी सहित सुशोभित हैं|ऐसा ध्यान सब सुमंगलों को देता है|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏