🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु नानक देव जीश्री गुरु नानक देव जी - साखियाँगुरु जी को गोपाल पांधे के पास पढ़ना – साखी श्री गुरु नानक देव जी

गुरु जी को गोपाल पांधे के पास पढ़ना – साखी श्री गुरु नानक देव जी

गुरु जी को गोपाल पांधे के पास पढ़ना

बाबा कालू जी ने शुभ दिन वार पूछ कर आपको नए वस्त्र पहना कर पांधे के पास भेज दिया| आप उनके लिए कुछ नकदी व मिष्ठान भी साथ लेकर गए|

“गुरु जी को गोपाल पांधे के पास पढ़ना – साखी श्री गुरु नानक देव जी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

महिता कालू जी गोपाल पांधे के साथ हिन्दी पढ़ाने की बात पक्की करके घर आ गए| पांधा भी गुरु जी को बुलार के पटवारी कालू चन्द का पुत्र समझ कर बड़े प्यार से पढ़ाने लगा| आपकी स्मरण शक्ति को देखकर पांधा प्रशंसा करते व कालू जी को बताते कि आपका पुत्र कितना होनहार है|

एक दिन श्री गुरु नानक देव जी पांधे से कहने लगे पांधा जी| यह बन्धन रूपी लेखा अब मुझसे वही पढ़ा जाता| आप मुझे यमों के बन्धन से मुक्त होने को लेखा बताएं| आपने वहां शब्द का उच्चारण भी किया|

आपके विचार सुनकर पांधे ने कहा कि आपके विचार उत्तम है| नाम जपने वालों को गरीबी की दशा में देखा जाता है| मरना भी सबका समान होता है| पांधा जी! ज्ञानी व अज्ञानी के मरने में अन्तर है| अज्ञानी पुरुष चिन्ता व शोक के साथ कई विषय विकारों को साथ लेकर मरते है, मगर ज्ञानी व्यक्ति परमात्मा को अंग संग देखते हुए व यमों से निर्भय होकर शरीर त्यागते है| आप जी के वचन सुनकर पांधे ने हाथ जोड़कर आपसे क्षमा मांगी|

श्री गुरु नानक देव जी – जीवन परिचय

 

श्री गुरु नानक देव जी – ज्योति ज्योत समाना

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

गुरु जी
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏