🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

फटा कुर्ता

हज़रत यूसुफ़ जिसको बाइबल में जोसफ़ कहा गया है, बहुत सुन्दर और बुद्धिमान था| उसके बड़े भाई उससे ईर्ष्या करते थे| दरअसल वे उससे घृणा करते थे क्योंकि वह बचपन से ही हर क्षेत्र में उनसे आगे रहता था| इस ईर्ष्या के कारण उन्होंने एक योजना बनायी कि उसे एक ग़ुलामों के व्यापारी के पास बेच दिया जाये| उस व्यापारी ने उसे ख़रीदकर, एक बड़ी रक़म लेकर उसे मिस्र के बादशाह के पास बेच दिया|

उस बादशाह की बेगम का नाम था ज़ुलेख़ा| हज़रत यूसुफ़ की शक्ल देखकर वह उस पर मोहित हो गयी| एक दिन वह हज़रत यूसुफ़ को अपने महल के अन्दर ले गयी, बाहर से दरवाज़े बन्द कर दिये और अपना बुरा विचार प्रकट किया| अब हज़रत यूसुफ़ ने सोचा कि एक ओर तो मेरा ईमान जाता है और मालिक की दरगाह से सज़ा मिलती है, दूसरी ओर यह बादशाह की बेगम है, अगर इसका कहना नहीं मानता तो यह मुझ पर झूठा इलज़ाम लगाकर सुबह मुझे मरवा देगी, इसलिए मैं करूँ तो क्या करूँ? यह सोच ही रहा था कि ज़ुलेख़ा ने वहाँ पड़ी पत्थर की मूर्ति पर कपड़ा डालकर उसे ढक दिया|

वह पत्थर की मूर्ति की पूजा किया करती थी| हज़रत यूसुफ़ ने देखा तो पूछा, “यह क्या है?” उसने कहा, “यह मेरा देवता है| मैं इसकी पूजा करती हूँ, इसलिए परदा डाला है ताकि यह देख न ले|”

हज़रत यूसुफ़ ने कहा, “जिसकी तू पूजा करती है उसके ऊपर तो कपड़ा डाल दिया, वह तो अब नहीं देखता, लेकिन जो मेरा ख़ुदा है वह तो हर जगह मौजूद है, सबकुछ देखता है|” यह कहकर वह बाहर की ओर भागा| ज़ुलेख़ा ने पीछे से कुर्ता पकड़ा, कुर्ता फट गया, लेकिन वह दौड़कर बाहर निकल गया|

ज़ुलेख़ा ने अपने पति बादशाह से शिकायत की कि यूसुफ़ ने मुझे छुआ है, यह बदमाश है, इसे फाँसी पर चढ़ा दो| बादशाह दुविधा में पड़ गया तहक़ीक़ात की| यूसुफ़ से पूछा| उसने सच-सच बता दिया| फिर बादशाह ने अपने अमीरों-वज़ीरों से सलाह ली, तो उन्होंने कहा कि इसका एक ही पक्का सबूत है| बादशाह ने पूछा कि वह क्या? उन्होंने कहा कि अगर कुर्ता आगे से फटा है तो यूसुफ़ की ग़लती है, अगर पीछे से फटा है तो यूसुफ़ भागा है और ज़ुलेख़ा ने कुर्ता पकड़ा है, तब वह फटा है| जब देखा, पता चला कि उसका कुर्ता पीछे से फटा हुआ था| अब ज़ुलेख़ा की शर्मनाक हरकत साबित हो गयी और हज़रत यूसुफ़ को छोड़ दिया गया|

अगर हमारे अन्दर यह ख़याल पक्का हो जाये कि वाक़ई ख़ुदा हर जगह हाज़िर-नाज़िर है, तो दुनिया में बहुत से बुरे कर्मों में कमी हो जाये|

FOLLOW US ON:
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏