🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेबीमारीयों के लक्षण व उपचारनकसीर के 20 घरेलु उपचार – 20 Homemade Remedies for Hemorrhage

नकसीर के 20 घरेलु उपचार – 20 Homemade Remedies for Hemorrhage

नाक से अचानक खून की धार फूटने की नकसीर कहते हैं| यह बच्चों तथा युवकों को अधिक होती है| कभी-कभी वृद्धों को भी इससे पीड़ित होते देखा गया है| नकसीर गरमी के वातावरण में शारीरिक गरमी बढ़ जाने के कारण फूटती है|

“नकसीर के 20 घरेलु उपचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Homemade Remedies for Hemorrhage Listen Audio

असल में शरीर का रक्त गरम होकर पतला पड़ जाता है| जिन बच्चों तथा युवकों की प्रकृति पित्त प्रधान होती है, उनका पतला रक्त नाक के द्वार से बाहर निकलना शुरू हो जाता है| नाक से निकलने वाला यह रक्त पित्त रोग के अन्तर्गत माना जाता है| जो लोग गरम तासीर वाले भोजन के शौकीन होते हैं तथा शराब, सिगरेट-बीड़ी आदि का आधिक सेवन करते हैं या धूप में देर तक कार्य करते रहते हैं, उनको यह रोग बड़ी जल्दी हो जाता है|

नकसीर फूटने पर बच्चे/युवक को तुरन्त किसी ठंडी जगह पर ले जाकर लिटाना चाहिए| प्राथमिक उपचार के लिए उसकी नाक को ठंडे पानी से धोकर उस पर ठंडे पानी की पट्टी रखनी चाहिए| पट्टी माथे पर रखने से भी रोगी को काफी राहत मिलती है| गुलाब का फूल व खस की जड़ को पानी में भिगोकर तथा पुदीना पीसकर बार-बार सुंघाना चाहिए| खून बंद होते ही नाक के नथुनों की सफाई कर देनी चाहिए| यदि रोगी जूते-मोजे या मोटे कपड़े पहने हुए हो तो उसे तुरन्त उतार देना चाहिए| पैर के तलवों पर देशी घी या मक्खन मलना चाहिए|

 

नकसीर के 20 घरेलु नुस्खे इस प्रकार हैं:

1. आम

आम की गुठली को पीसकर उसका रस निकाल लें| फिर इस रस को नाक में बूंद-बूंद टपकाएं|


2. गन्ना और प्याज

गन्ने के रस में आठ-दस बूंद प्याज का रस मिलाकर नाक, कनपटियों तथा माथे पर धीरे-धीरे मलें|


3. फिटकिरी

माथे पर फिटकिरी का लेप करने से नाक से खून गिरना रुक जाता है|


4. आंवला और मुलहठी

एक चम्मच आंवले का चूर्ण तथा एक चम्मच मुलहठी का चूर्ण – दोनों को मिलाकर रोगी को दूध या ताजे पानी से सेवन कराएं|


5. अनार, घी और दूब

10 ग्राम अनार की पत्तियों का रस, 10 ग्राम गेंदे की पत्तियों का रस तथा 10 ग्राम दूब का रस – तीनों को गाय के घी में मिलाकर, थोड़ी देर तक आग पर पकने दें| फिर इसमें से एक चम्मच दवा रोगी को पिलाएं| नाक तथा माथे पर उस घी की मालिश भी करें|


6. गुलाबजल और किशमिश

रात में गुलाबजल में किशमिश पीसकर सेवन करें|


7. धनिया, मिश्री और पानी

ताजे पानी में धनिया के थोड़े से दाने भिगो दें| फिर उनको पीसकर मिश्री डालकर रोगी को तीन-चार बार पिलाएं|


8. पेठा

पेठे की मिठाई खिलाने तथा पेठे का शरबत पिलाने से भी नकसीर का खून रुक जाता है|


9. आंवला और सेंधा नमक

आंवले के रस में सेंधा नमक डालकर सेवन करें तथा स्वरस नाक में भी बूंद-बूंद टपकाएं|


10. तुलसी

माथे पर तुलसी के पत्तों का लेप करने से खून रुक जाता है|


11. उरद

उरद की दाल पीसकर माथे पर लेप करें|


12. मुलतानी

मुलतानी मिट्टी भिगोकर नाक तथा माथे पर लेप करने से नकसीर में काफी लाभ होता है|


13. बेल

बेल के पत्तों का रस एक चम्मच की मात्रा में पिलाने से नकसीर का खून रुक जाता है|


14. नीबू

ताजे नीबू का रस निकालकर नाक में टपकाएं|


15. नीबू

नीबू की शिकंजी पिलाने से नाक से खून बहना रुक जाता है|


16. गेहूं और दूध

यदि नकसीर फूटने पर खून न रुके तो दो चम्मच जौ या गेहूं का आता कच्चे दूध में अच्छी तरह घोलकर पिला दें|


17. बथुए और नीबू

बथुए के रस में थोड़ा-सा नीबू का रस मिलाकर पिलाने से नकसीर का खून रुक जाता है|


18. गाय का दूध

गाय के दूध में थोड़ी-सी फिटकिरी डालकर रोगी को बार-बार सुंघाएं|


19. अजवायन और नीम

अजवायन तथा नीम के पत्तों को पीसकर लेप बना लें| फिर इस लेप को रोगी की कनपटियों और माथे पर लगाएं|


20. लौकी और शहद

दो चम्मच लौकी के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर पिलाएं|


नकसीर में क्या खाएं क्या नहीं 

नकसीर फूटने पर खाने-पीने में कोई विशेष परहेज नहीं है| फिर भी गरम पदार्थ, गरम मसाले, चाट-पकौड़े, चाय, कहवा, शराब या अन्य प्रकार के मादक पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए| शरीर की सहनशीलता तथा स्वभाव से अधिक ठंडे पदार्थों को भी नहीं ग्रहण करना चाहिए| जहां तक हो सके, सम स्वभाव या तासीर के फल तथा सब्जियां खानी चाहिए| गरमी वाले स्थानों तथा धूप में काम करने की क्रिया-विधि रोक देनी चाहिए| ठंडे स्थानों में निवास करना तथा कुछ ठंडे पदार्थों का सेवन हितकारी रहता है| वैसे पित्त को शान्त करने वाले नुस्खों का इस्तेमाल किया जा सकता है|

नकसीर का कारण

नाक अथवा दिमाग में अचानक चोट लगने, खून के भार में वृद्धि होने, पुराने जुकाम के बिगड़ जाने आदि के कारण नाक से खून बहने लगता है| कई बार पुराने बुखार की गरमी से भी खून फूट पड़ता है| नकसीर प्राय: गरमियों में फूटती है क्योंकि इस मौसम में शरीर में काफी गरमी बढ़ जाती है|

नकसीर की पहचान

नकसीर फूटने से पहले सिर में भारीपन मालूम पड़ता है| फिर अचानक सिर में दर्द हो जाता है| दिमाग घूमने लगता है और कभी-कभी तेज चक्कर आ जाता है| लगता है, जैसे दिमाग में किसी ने गरमी के बगूले भर दिए हों| इसके बाद बच्चे या युवक की नाक से गरम-गरम खून बहना शुरू हो जाता है| खून के बहने की क्रिया कभी तो नाक के बाएं नथुने से होती है और कभी दोनों नथुनों से| खून मुंह में आकर पेट में भी चला जाता है| इससे खांसी पैदा हो जाती है| रोगी घबरा जाता है| उसे सांस लेने में भी मुसीबत मालूम पड़ती है|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏