🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेबीमारीयों के लक्षण व उपचारकीड़े-मकोड़ों के काटने के 11 घरेलु उपचार – 11 Homemade Remedies for Bugs Bite

कीड़े-मकोड़ों के काटने के 11 घरेलु उपचार – 11 Homemade Remedies for Bugs Bite

कीड़े-मकोड़े के काटने पर दंशित स्थान को छूना अथवा नाखून आदि से खुजलाना नहीं चाहिए| इससे विषक्रमण बढ़ जाने की संभावना होती है| इसका उपचार यथाशीघ्र करने का प्रयास करना चाहिए|

“कीड़े-मकोड़ों के काटने के 11 घरेलु उपचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Homemade Remedies for Bugs Bite Listen Audio

कीड़े-मकोड़ों के काटने के 11 घरेलु नुस्खे इस प्रकार हैं:

1. गाय का घी और कपूर

गाय के घी में थोड़ा-सा कपूर पीसकर मिला लें| फिर उसे मधुमक्खी या बर्रै के डंक मारने वाले स्थान पर थोड़ी देर तक मलें|


2. लहसुन

लहसुन की ताजा कलियां पीसकर बिच्छू के काटे स्थान लगाएं|


3. दियासलाई

बर्रै तथा मधुमक्खी के डंक मारने वाले अंग पर दियासलाई का मसाला पानी में भिगोकर लगाएं|


4. नीम और कालीमिर्च

नीम के पत्तों के साथ चार-पांच दाने कालीमिर्च पीसकर लगाएं|


5. नीबू और नमक

नीबू के रस में नमक मिलाकर दंश वाले स्थान पर लगाने से रोगी को काफी आराम मिलता है|


6. शहद

शहद लगाने से कीड़े-मकोड़े का जहर शान्त हो जाता है|


7. धनिया

बर्रै या मधुमक्खी के दंश वाले स्थान पर सिरके के साथ धनिया पीसकर लगाना चाहिए| दंश से छुटकारा मिल जाएगा|


8. तुलसी

मच्छर के काटने पर तुलसी के पत्ते पीसकर उनका रस लगाएं|


9. नमक और पानी

नमक के टुकड़े को पानी में भिगोकर बर्रै या मधुमक्खी के डंक मारने वाले अंग पर लगाएं|


10. लौकी

लौकी का गूदा बिच्छू के डंक मारने वाले स्थान पर धीरे-धीरे मलें| लौकी का रस चार चम्मच की मात्रा में रोगी को पिलाना भी चाहिए|


11. कालीमिर्च

कुत्ते के काटने पर कलीमिर्चें पीसकर घाव पर लगा दें| बाद में योग्य चिकित्सक को दिखाएं|

 

कीड़े-मकोड़ों के काटने का कारण

कीड़े-मकोड़े जानबूझ कर किसी को नहीं काटते| वे तब काटते या डंक मारते हैं, तब उन पर हाथ-पांव पड़ जाता है या उनको अपने जीवन का खतरा महसूस होता है| असल में वे अपने को बचाने ले लिए ऐसा करते हैं|

 

कीड़े-मकोड़ों के काटने की पहचान

मधुमक्खी, बर्रै, कीड़ा या मच्छर के काटने पर डंक द्वारा विष शरीर में प्रवेश कर जाती है, जिस कारण बहुत दर्द होता है, जलन व लपकन होती है और वहां पर सूजन आ जाती है| बिच्छू तथा सांप का विष तो सारे शरीर में फैल जाता है| इससे रोगी को असहनीय दर्द होता है| कई बार जी मिचलाता है और रोगी बेहोश तक हो जाता है|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏