🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेखाद्य पदार्थों के स्वास्थ्य लाभआलू के 23 स्वास्थ्य लाभ – 23 Health Benefits of Potato

आलू के 23 स्वास्थ्य लाभ – 23 Health Benefits of Potato

आलू के 23 स्वास्थ्य लाभ - 23 Health Benefits of Potato

आलुओं को सभी सब्जियों में अग्रणी माना जाता है| यदि किसी भी पकवान में आलू न हो तो सब कुछ फीका-फीका ही प्रतीत होता है| आलू का प्रयोग बारहों महीने और तीसों दिन किया जाता है| सब्जी के रूप में, चाट-पकौड़ी के रूप में या फिर चिप्स और पापड़ के रूप में; सभी में आलू प्रयुक्त होता है| विश्व भर में इसका प्रयोग किया जाता है, किन्तु यह वायु को बढ़ाने वाला है| इससे मांस व चर्बी की वृद्धि होती है|

आलू के 23 औषधीय गुण इस प्रकार हैं:

1. त्वचा

सदी में ठंडी-सूखी हवाओं में हाथों की त्वचा पर झुर्रियां पड़ने पर कच्चे आलू को पीस कर हाथों पर मलें| इससे झुर्रियां ठीक हो जाएंगी| नींबू का रस भी समान लाभदायक है| कच्चे आलू का रस पीने से दाद, फुंसियां, गैस, स्नायुविक और मांसपेशियों के रोग दूर होते हैं|


2. रक्तपित्त

(Scurvy) रोग विटामिन-सी की कमी से होता है| इस रोग की प्रारंभिकावस्था में शरीर और मन की शक्ति क्षीण हो जाती है अर्थात रोगी का शरीर निर्बल, असमर्थ, मंद, कृश तथा पीला-सा दिखता है| थोड़े से परिश्रम में सांस चढ़ जाता है| मनुष्य में सक्रियता के स्थान पर निष्क्रियता आ जाती है| रोग के कुछ प्रकट रूप में होने पर टांगों की त्वचा पर रोम कृपों के आसपास आवरण के नीचे से रक्तस्त्राव होने लगता है| बालों के चारों ओर त्वचा के नीचे छोटे-छोटे लाल चकत्ते निकलते हैं| फिर धड़ की त्वचा पर भी रोम कूपां के आसपास ऐसे बड़े-बड़े चकत्ते निकलते हैं| त्वचा देखने में खुश्क, खुरदरी और शुष्क लगती है| दूसरे शब्दों में अतिकिरेटिनता हो जाता है| मसूढ़े पहले से ही सूजे हुए होते हैं और इनसे सरलता से रक्तस्त्राव हो जाता है| बाद में रोग बढ़ने पर टांगों की मांसपेशियों, विशेषत: प्रसारक पेशियों से रक्तस्त्राव होकर उनमें वेदनायुक्त तथा स्पर्शाक्षम ग्रंथियां भी बन जाती हैं| हृदय-मांस में भी स्त्राव होकर हृदय-शूल का रोग हो सकता है| नासिका आदि से खुला रक्तस्त्राव भी हो सकता है| अस्तिक्षय और पूय स्त्राव भी इस विटामिन की कमी से प्रतीत होता है| कच्चा आलू रक्त पित्त को दूर करता है| विटामिन-सी आलू में बहुत होता है| इसको मीठे दूध में भी मिलाकर पिला सकते हैं| आलू को छिलका सहित गरम राख में भूनकर खाना सबसे अधिक गुणकारी है या इसको छिलके सहित पानी में उबालें और गल जाने पर खाएं| पानी, जिसमें आलू उबाले गये हों, को न फ़ेंके, बल्कि इसी पानी में आलुओं का रस पका लें| इस पानी में मिनरल और विटामिन बहुत होते हैं|


3. बेरी-बेरी रोग

बेरी-बेरी का अर्थ है – चल नहीं सकना| इस रोग से जंघागत नाड़ियों में क्षीणता का लक्षण विशेष रूप से होता है| आलू पीस कर, दबाकर, रस निकाल कर एक चम्मच की एक खुराक के हिसाब से चार बार नित्य पिलाएं| कच्चे आलू को चबाकर रस को निगलने से भी समान लाभ होता है|


4. उच्च रक्तचाप

उच्च रक्तचाप के रोगी भी आलू खाएं तो रक्तचाप को सामान्य बनाने में लाभ करता है| पानी में नमक डालकर आलू उबालें| छिलका होने पर आलू में नमक कम पहुंचता है और आलू नमक युक्त भोजन बन जाता है| इस प्रकार यह उच्च रक्तचाप में लाभ करता है| आलू में मैग्नीशियम पाया जाता है, जो उच्च रक्तचाप को कम करता है|


5. अम्लता

(Acidity) आलू की प्रकृति क्षारीय है, जो अम्लता को कम करती है| अम्लता के रोगी भोजन में नियमित आलू खाकर अम्लता को दूर कर सकते हैं|


6. गोरापन

आलू को पीसकर त्वचा पर मलें, रंग गोरा हो जायेगा|


7. सूजन

कच्चे आलू सब्जी की तरह काट लें| जितना वजन आलुओं का ही, उससे डेढ़ गुना पानी में उसे उबालें| जब केवल एक गुना पानी रह जाये तो उस पानी से चोट से आई सूजन वालें अंगों को धोएं, सेंक करें, लाभ होगा|


8. नेत्र रोग

आंखों में जाला एवं फूला : कच्चा आलू पत्थर पर घिसकर सुबह-शाम काजल की तरह लगाने से 5-6 वर्ष पुराना जाला और चार वर्ष तक का फूला 3 मास में साफ़ हो जाता है|


9. दुर्बलता

(बच्चों का पौष्टिक भोजन) आलू का रस दूध पीते बच्चों को पिलाने से वे मोटे-ताजे हो जाते हैं| आलू के रस में मधु मिलाकर भी पिला सकते हैं| आलू का रस निकालने की विधि यह है की आलुओं को ताजे पानी में अच्छी तरह धोकर छिलके सहित कद्दूकस करके इस लुगदी को कपड़े में दबाकर रस निकाल लें| इस रस को एक घंटे के लिए ढंककर रख दें| जब सारा कचरा, गूदा नीचे जम जाए, तो ऊपर का निथरा रस अलग करके काम में लें|


10. गुर्दे के रोग

गुर्दे या वृक्क (Kidney) के रोगी भोजन में आलू खायें| आलू में पोटेशियम की मात्रा बहुत पाई जाती है और सोडियम की मात्रा कम| पोटेशियम की अधिक मात्रा गुर्दे से अधिक नमक की मात्रा निकाल देती है, इससे गुर्दे के रोगी को लाभ होता है|


11. भूख

आलू खाने से पेट भर जाता है और भूख में संतुष्टि अनुभव होती है| आलू में वसा (चर्बी) या चिकनाई नहीं पाई जाती है| यह शक्ति देने वाला है और जल्दी पचता है| इसलिए इसे अनाज के स्थान पर खा सकते हैं|


12. मोटापा

आलू मोटापा नहीं बढ़ाता| आलू को तलकर तीखे मसाले, घी आदि लगाकर खाने से जो चिकनाई पेट में जाती है, वह चिकनाई मोटापा बढ़ाती है| आलू को उबालकर, गर्म रेत या राख में भूनकर खाना लाभदायक और निरापद है|


13. गठिया

भोभल में चार आलू सेंक लें और फिर उनका छिलका उतार कर नमक-मिर्च डालकर नित्य खाएं| इससे गठिया ठीक हो जाती है|


14. आमवात

(Rheumatism) पजामे या पतलून के दोनों जेबों में लगातार एक छोटा-सा आलू रखें तो यह आमवात से रक्षा करता है| आलू खिलाने से भी बहुत लाभ होता है|


15. कटिवेदना

(Lumbago) कच्चे आलू की पुल्टिस कमर में लगायें|


16. घुटना

घुटने के श्लेषकला-शोथ, सूजन व इस जोड़ में किसी प्रकार की बीमारी हो जाए तो कच्चे आलू को पीसकर लगाने से बहुत लाभ मिलता है|


17. विपर्स

यह एक ऐसा संक्रामक चर्म रोग है, जिसमें सूजन युक्त छोटी-छोटी फुंसियां होती हैं| त्वचा लाल दिखाई देती है तथा साथ में ज्वर रहता है| पहली फुंसियां ठीक हो जाती हैं तथा साथ-ही साथ दूसरी जल्दी फैल जाती है| इस रोग पर आलू को पीसकर लगाने से लाभ होता है|


18. पथरी

एक या दोनों गुर्दों में पथरी होने पर केवल आलू खाते रहने पर बहुत लाभ होता है| पथरी के रोगी को केवल आलू खिलाकर और बार-बार अधिक पानी पिलाते रहने से गुर्दे की पथरियां और रेत आसानी से निकल जाती हैं| आलू में मैग्नीशियम पाया जाता है, जो पथरी को निकालता है तथा बनने से रोकता है|


19. नील पड़ना

कभी-कभी चोट लगने पर नील पड़ जाता है| नील पड़ी जगह पर कच्चा आलू पीसकर लगाएं|


20. जलना

जले हुए स्थान पर कच्चा आलू पीसकर लगाएं| तेज धूप, लू से त्वचा झुलस गई हो तो कच्चे आलू का रस झुलसी हुई त्वचा पर लगाने से सौन्दर्य से निखार आ जाता है|


21. हृद्दाह

इसमें आलू का रस पिएं| यदि रस निकाला जाना कठिन हो तो कच्चे आलू को मुंह में चबाएं तथा रस पी जाएं और गूदे को थूक दें| इससे हृद्दाह में आराम मिलता है| हृद्दाह में रोगी को हृदय पर जलन प्रतीत होती है| इसका रस पीने से तुरन्त ठंडक प्रतीत होती है|


22. अम्लता

जिन रोगियों के पांचकांगों में अम्लता (खट्टापन) की अधिकता है, खट्टी डकारें आती हैं और वायु अधिक बनती है| उनके लिए गर्म-गर्म राख या रेत में भुना हुआ आलू खाना लाभदायक है| भुना हुआ आलू गेहूं की रोटी से आधी देर में हजम हो जाता है और शरीर को गेहूं की रोटी से भी अधिक पौष्टिक पदार्थ पहुंचाता है| यह पुराना कब्ज और अंतड़ियों की सड़ांध दूर करता है| आलू में पोटेशियम साल्ट होता है, जो अम्लपित्त को रोकता है|


23. वातरक्त

कच्चा आलू पीसकर वातरक्त में अंगूठे पर लगाने से दर्द कम होता है| दर्द वाले स्थान पर भी लेप करें|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏