🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeआरती संग्रहवंदना निराकार भगवान की – Vandana Nirakar Bhagavan ki

वंदना निराकार भगवान की – Vandana Nirakar Bhagavan ki

वंदना निराकार भगवान की - Vandana Nirakar Bhagavan ki

वंदना निराकार भगवान की आरती इस प्रकार है|

वंदना निराकार भगवान की आरती इस प्रकार है:

अजब हैरान हूँ भगवन, तुम्हें क्यों कर रिझाऊँ मैं|
कोई वस्तु नहीं ऐसी, जिसे सेवा में लाऊँ मैं||

करें किस तरह आवाहन कि, तुम मौजूद को हर जगह|
निरादर है बुलाने को, अगर घण्टी बजाऊँ मैं||

तुम्हीं हो मूर्तियों में भी, तुम्हीं व्यापक हो फूलों में|
भलाभगवान को भगवान पर, क्यों कर चढ़ाऊ मैं||

लगाना भोग कुछ तुमको, यह इक अपमान करना है|
खिलाता है जो जग को, उसे क्यों कर खिलाऊँ मैं||

तुम्हारा ज्योति से रोशन हैं, सूरज चाँद और तारे|
महा अन्धेर है कैसे, तुम्हें दीपक दिखऊँ मैं||

भुजाए हैं न गर्दन है, न सीना है न पेशानी|
तुम हो निर्लेप नारायण, कहां चन्दन लगाऊँ मैं||

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏