🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏
Homeआरती संग्रहशिवजी की आरती – Shivji ki Aarati

शिवजी की आरती – Shivji ki Aarati

एकादशी माहात्म्य

शिवजी की आरती

शिवजी की आरती इस प्रकार है:

शंकर तेरी जटा में, बहती है गंगाधारा|
काली घटा के अंदर, जिमि दामिनी उजारा||

गल मुण्डमाला राजे, शशि भाल में विराजे|
डमरू निदान बाजे, कर में त्रिशूल भारा||

दृग तीन तेज राशि, कटिबन्ध भाग फांसी|
गिरिजा हैं संग दासी, सब विश्व के अधारा||

मृत चर्म भस्मधारी, वृषभराज पर सवारी|
निज भक्त दुखहारी, कैलास में विहारा||

शिव नाम जो उचारे, सब पाप दोष टारे|
ब्रह्मानन्द ना बिसारे, भव सिन्धु पार तारा||

शंकर तेरी जटा में, बहती ही गंगाधारा|
काली घटा के अंदर जिमि दामिनी उजारा||

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏