Homeआरती संग्रहबृहस्पतिवार की आरती – Brhaspativaar ki Aarati

बृहस्पतिवार की आरती – Brhaspativaar ki Aarati

बृहस्पतिवार की आरती - Brhaspativaar ki Aarati

बृहस्पतिवार की आरती

बृहस्पतिवार की आरती इस प्रकार है:

जय जय राम आरती तुम्हारी,
राम दयालु भक्ति हितकारी|

जिन हित प्रगटे हरि व्रतधारी,
जन प्रहलाद प्रतिज्ञा पाली|

द्रुपदसुता को चीर बढ़ायो,
गज के काज पयादे धायो|

दस सिर छेदि बीस भुज तोरे,
तैंतीस कोटि देव बन्दि छोरे|

छत्र लिए कर लक्ष्मण भ्राता,
आरती करत कौशल्या माता|

शुक शारद नारद मुनि ध्यावै,
भरत शत्रुहन चंवर दुरावै|

राम के चरण गहे महाबीरा,
धुरुव प्रहलाद बालिसुत वीरा|

लंका जीति अवध हरि आये,
सब सन्तन मिली मंगल गाये|

सीता सहित सिंहासन बैठे,
रामानन्द स्वामी आरती गाये|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

Rate This Article: