🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeआरती संग्रहश्री बजरंगबली जी की आरती- Shri Bajarangbali ji ki Aarati

श्री बजरंगबली जी की आरती- Shri Bajarangbali ji ki Aarati

श्री बजरंगबली जी की आरती- Shri Bajarangbali ji ki Aarati

श्री बजरंगबली जी की आरती

श्री बजरंगबली जी की आरती इस प्रकार है:

आरती कीजै हनुमान लला की|
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की||

जाके बल से गिरवर कांपे|
रोग दोष जाके निकट ना झांके||

अंजनी पुत्र महाबलदाई|
सन्तन के प्रभु सदा सहाई||

दे बीड़ा रघुनाथ पठाये|
लंका जारि सिया सुधि लाये||

लंका सो कोट समुद्र सी खाई|
जात पवनसुत वार ना लाई||

लंका जारि असुरि सब मारे|
सीता रामजी के काज संवारे||

लक्ष्मण मूर्छित पड़े धरणी में|
लाये संजीवन प्राण उबारे||

पैठि पाताल तोरि जम-कारे,
अहिरावण की भुजा उखारे|

बाईं भुजा असुर संहारे|
दाईं भुजा सब सन्त उबारे||

सुर नर मुनि जन आरती उतारें|
जय जय जय हनुमान उचारें||

कंचन थाल कपूर की बाती|
आरती करत अंजना माई||

जो हनुमान जी की आरती गावैं|
बसि बैकुन्ठ अमर पद पावैं||

लंक विध्वंस किये रघुराई|
तुलसीदास स्वामी कीर्ति गाइ||

आरती कीजै हनुमान लला की|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏