🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeआरती संग्रहबुधवार व्रत की आरती – Budvar (Wednesday) Vart Ki Aarti

बुधवार व्रत की आरती – Budvar (Wednesday) Vart Ki Aarti

बुधवार व्रत की आरती - Budvar (Wednesday) Vart Ki Aarti

बुध ग्रह सूर्य के सबसे करीब ग्रह है| बुध देवता जी की आरती एंवं स्तुति का अपना ही एक महत्व है| ऐसा माना जाता है की बुध देवता अपने भगतों पर ज्ञान और धन की वर्षा करते हैं| बुधवार के दिन की गई एक प्रार्थना सभी बाधाओं से निजात दिलवाती है, जिससे कई गुना लाभ मिलता है| मुख्यतः रूप से संतान प्राप्ति तथा भूमि के लाभ मे इनकी खासकर पूजा की जाती है|

“बुधवार व्रत आरती” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Audio Budvar Vart Aarti

बुधवार व्रत की आरती इस प्रकार है:

आरती युगलकिशोर की कीजै |
तन मन धन न्योछावर कीजै || टेक ||

गौरश्याम मुख निरखत रीजे |
हरि का स्वरुप नयन भरि पीजै ||

रवि शशि कोटि बदन की शोभा |
ताहि निरखि मेरो मन लोभा ||

ओडे नील पीत पट सारी |
कुंजबिहारी गिरिवरधारी ||

फूलन की सेज फूलन की माला |
रतन सिहांसन बैठे नंदलाला ||

कंचनथार कपूर की बाती |
हरि आये निर्मल भई छाती ||

श्री पुरषोतम गिरिवरधारी |
आरती करें सकल ब्रज नारी ||

नंदनंदन ब्रजभान, किशोरी |
परमानंद स्वामी अविचल जोरी ||

बुधवार  वर्त की विधि इस प्रकार है:

  • ग्रह शांति तथा सर्व – सुखो की इच्छा रखने वालो को बुधवार का व्रत करना चाहिए |
  • रात दिन में एक ही बार भोजन करे |
  • व्रत में हरी वस्तुओ का प्रयोग करना उत्तम है |
  • व्रत के अंत में शंकर जी की पूजा, धूप, बेल – पत्र आदि से करनी चाहिए |
  • कथा के बीच में नहीं उठना चाहिए |

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏