🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँसुस्त नौकरानियां और मुर्गा – शिक्षाप्रद कथा

सुस्त नौकरानियां और मुर्गा – शिक्षाप्रद कथा

सुस्त नौकरानियां और मुर्गा - शिक्षाप्रद कथा

एक कंजूस महिला की यह आदत थी कि जैसे ही मुर्गे ने भोर में बांग लगाई – ‘कुंकडू-कूं’ और उसने अपनी नौकरानियों को उनके बिस्तरों से उठाना शुरू कर दिया|
नौकरानियां जवान मगर काहिल थीं| उन्हें इस तरह अपनी मालकिन द्वारा गहरी नींद से उठाया जाना बिल्कुल पसंद नहीं था| वे चाहती थीं कि किसी प्रकार इस समस्या का हल निकल आए|

वह मुर्गा उनके लिए सबसे अधिक चिंता का विषय था| चाहे गरमी हो या बरसात, जाड़ा हो या बसन्त, बेरोकटोक सूर्य की निर्मल किरणें धरती पर पड़ते ही वह बांग देना शुरू कर देता था| उसकी बांग की आवाज सुनकर वह कंजूस महिला खूद तो उठ ही जाती, साथ ही गहरी नींद सोती हुई अपनी नौकरानियों को भी उठा देती|

“यह सब उस मुर्गे के कारण होता है| उसकी वजह से ही हमारी नींद में खलल पड़ती है| हमारी इस समस्या का हल यही है कि हम उस मुर्गे को ही जान से मार दें|” उनमें से एक नौकरानी ने अपनी राय दी|

उसकी बात सुनकर सभी नौकरानियां काफी खुश हुईं| उन्होंने उस मुर्गे को मारने की एक योजना भी बनाई| एक दिन मौका पाकर उन्होंने मुर्गे को पकड़ा और एकांत में ले जाकर उसकी गरदन ऐंठ कर उसे जान से मार दिया|

अब वे सभी यह सोचकर प्रसन्न थीं कि न तो मुर्गा भोर में बांग देगा और न ही मालकिन उठकर उन्हें जगाएगी| इस प्रकार उन्हें सुबह देर तक सोए रहने का अवसर प्राप्त हो जाएगा|
मगर उन्हें निराशा ही हाथ लगी| अब मालकिन के पास चूंकि सही समय जानने का कोई साधन नहीं था, इसलिए वह सूर्य निकलने के बहुत पहले या कभी-कभी आधी रात को उठ बैठती और साथ ही अपनी नौकरानियों को भी उठा देती|

नौकरानियों ने अपनी समस्या के हल के लिए मुर्गे को जान से मारा था, मगर हाय रे भाग्य! इससे उनकी समस्या बजाय घटने के और बढ़ गई|

शिक्षा: किसी कार्य को करने से पहले उसका अंजाम पहले सोचो|

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏