🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँनाग और चींटियां – शिक्षाप्रद कथा

नाग और चींटियां – शिक्षाप्रद कथा

नाग और चींटियां - शिक्षाप्रद कथा

एक घने जंगल में एक बड़ा-सा नाग रहता था| चिड़ियों के अंडे, मेंढक तथा छिपकलियों जैसे छोटे जीव-जंतुओं को खाकर वह अपना पेट भरता था| रातभर वह अपने भोजन की तलाश में रहता और दिन निकलने पर अपने बिल में जाकर सो जाता| धीरे-धीरे वह मोटा होता गया, हालत यह हो गई कि वह इतना मोटा हो गया कि उसका बिल के अंदर-बाहर आना जाना भी दूभर हो गया|

आखिरकार, उसने उस बिल को छोड़कर एक विशाल पेड़ के नीचे रहने की सोची| लेकिन वहीं पेड़ की जड़ में चींटियों की बांबी थी और उनके साथ रहना नाग के लिए असंभव था| सो, वह नाग उन चींटियों की बांबी के निकट जाकर बोला, “मैं सर्पराज नाग हूं, इस जंगल का राजा| मैं तुम चीटियों को आदेश देता हूं कि यह जगह छोड़कर चली जाओ|”

वहां और भी जानवर थे जो उस भयानक सांप को देखकर डर गए और जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे| लेकिन चींटियों ने नाग की इस धमकी पर कोई ध्यान न दिया| वे पहले की तरह अपने काम-काम में जुटी रहीं|

नाग ने यह देखा तो वह गुस्से में जोर से फूंककारा| यह देख हजारों-चींटियां उस बांबी से निकल पड़ीं और नाग से लिपटकर उसके शरीर पर काटने लगीं| नाग बिलबिलाने लगा| उसकी पीड़ा असहनीय हो चली थी और शरीर पर घाव होने लगे थे| नाग ने चींटियों को हटाने की बहुत कोशिश की लेकिन असफल रहा| कुछ ही देर में उसने वहीं तड़प-तड़पकर जान दे दी|

शिक्षा: बुद्धि से काम लेने पर शक्तिशाली शत्रु को भी परास्त किया जा सकता है|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏