🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँशौर्य-परीक्षा

शौर्य-परीक्षा

कौरव और पांडव राजकुमारों ने शस्त्र विद्या तो सीख ही ली थी, शास्त्रों का ज्ञान भी प्राप्त कर लिया था| वे सब वयस्क हो गए थे, जनता में अपना वर्चस्व स्थापित करने लगे थे| कौरव और पांडव दोनों हस्तिनापुर के विशाल साम्राज्य के दावेदार थे|

“शौर्य-परीक्षा” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

दोनों का समान भाग था, पर दुर्योधन अपनी कुटिलता के कारण इस बात को नहीं मानता था| वह कौरवों में सबसे बड़ा था| उसके पिता धृतराष्ट्र के हाथों में शासन की बागडोर थी| अत: वह अपने को ही सबकुछ मानता था| केवल इतना ही नहीं, वह समय-समय पर पांडवों का निरादर और उपहास भी किया करता था|

पांडव बड़े ही सुशील और सत्प्रवृत्ति के थे|उनकी दृष्टि धन और राज्य की ओर अधिक नहीं थी| वे धन और राज्य से धर्म को अधिक महत्व देते थे| यद्यपि दुर्योधन उनके प्रति वैर भाव रखता था, किंतु वे दुर्योधन को भी अपना भाई ही समझते थे| जनता में कौरवों की उपेक्षा पांडवों का बड़ा नाम था| इसका कारण यह था कि वे बड़े शूरवीर थे| जनता उन पर गर्व करती थी और उन्हें देखने के लिए उत्कंठित रहा करती थी|

बसंत पंचमी का पर्व था| पांडव और कौरव राजकुमारों के शौर्य की परीक्षा का दिन था| महीनों पहले घोषणा हुई थी| हस्तिनापुर के निवासी बड़ी उत्सुकता के साथ उस दिन की प्रतीक्षा कर रहे थे| हस्तिनापुर के एक विशाल प्रांगण में शौर्य-परीक्षा की आयोजना की गई थी| प्रांगण को चारों ओर से बाड़ों के द्वारा घेर दिया गया था| बीच-बीच में दर्शकों के बैठने के लिए छोटे-बड़े मंच भी बनाए गए थे| राजकुटुंब के सदस्यों और सम्मानित नागरिकों के बैठने के लिए विशेष प्रकार के मंच बनाए गए थे| घेरे हुए मैदान को झंडों, पताकाओं, बंदनवारों और पुष्प-मालाओं से सुसज्जित किया गया था| तरह-तरह के बाजे और ध्वनियां भी बजाई जा रही थीं| सारा मैदान दर्शकों से भरा था| मंचों पर सुसज्जित वेशभूषा में नागरिक और राजकुटुंब के सदस्य बैठे हुए थे| स्त्रियों के मंच पर राजकुटुंब की स्त्रियों के साथ कुंती और गांधारी भी विराजमान थीं| साधारण दर्शकों में अधिरथ भी अपने पुत्र कर्ण के साथ मौजूद था| सबको आंखें मैदान के मध्य भाग की ओर लगी हुई थीं|

शंख ध्वनि के साथ शौर्य-परीक्षा आरंभ हुई| कौरव और पांडव राजकुमार मध्य भाग में पहुंचकर अपना कौशल दिखाने लगे| जब भीम का नाम लिया गया, तो करतल ध्वनि की गड़गड़ाहट हो उठी| विशालकाय भीम हाथ में गदा लिए हुई मध्यम भाग में उपस्थित हुआ| वह नंगे बदन था, पीतवर्ण का लंगोट धारण किए हुए था| उसकी बलिष्ठ भुजाएं थीं, चौड़ी छाती थी और तेजोमय मुखमण्डल था| वह देखने में पर्वत के सदृश मालूम हो रहा था|

भीम प्रांगण के मध्य में पहुंचकर गदा युद्ध का प्रदर्शन करने लगा| उसके कौशल को देखकर जनता मुग्ध हो उठी| बार-बार तालियां बजा-बजाकर उसका अभिनंदन करने लगी| भीम जब अपने कौशल का प्रदर्शन कर चुका तो घोषणा हुई – क्या कोई राजकुमार गदायुद्ध में भीम का सामना कर सकता है?

घोषणा होते ही दुर्योधन गदा लिए हुए भीम के सामने जाकर खड़ा हो गया| उसका आकार-प्रकार भी भीम के ही समान था| वह लाल रंग का लंगोट धारण किए हुए था| भीम और दुर्योधन में गदायुद्ध होने लगा| दोनों के कौशल को देखकर जनता वाह-वाह करने लगी, रह-रहकर तालियां बजाने लगी| पहले तो दोनों अपना-अपना कौशल दिखाते रहे, पर बाद में उनके भीतर क्रोध पैदा हो गया| दोनों गदा फेंककर मल्लयुद्ध करने लगे, तो द्रोनाचार्य ने आज्ञा देकर उन्हें पृथक करा दिया| यद्यपि निर्णय नहीं हो सका कि दोनों में श्रेष्ठ कौन है किंतु यह बात तो हुई ही कि दोनों के कौशल को देखकर जनता मुग्ध हो उठी थी|

भीम और दुर्योधन के पश्चात अर्जुन के नाम की घोषणा हुई| घोषणा होते ही वह धनुष-बाण लेकर प्रांगण के मध्य के उपस्थित हो गया| उसका सुंदर और कांतिमय शरीर था| उसके सिर पर घुंघराले बाल थे| उसके अंग-अंग से तेज और शौर्य टपक रहा था| वह भी पीतवर्ण की काछनी काछे हुए था, देखने में इंद्र-सा ज्ञात हो रहा था|

अर्जुन प्रांगण के मध्य में खड़ा होकर अपना कौशल दिखाने लगा| उसके कौशल को देखकर जनता मुग्ध हो गई| अर्जुन जब अपना कौशल दिखा चुका, तो फिर घोषणा हुई – क्या कोई राजकुमार अर्जुन की बराबरी कर सकता है?

घोषणा सुनकर चारों ओर सन्नाटा छा गया| कोई भी अर्जुन का मुकाबला करने के लिए खड़ा नहीं हुआ| जब कोई आगे नहीं आया, तो फिर घोषणा हुई – क्या यह समझा जाए कि अर्जुन का मुकाबला करने वाला कोई नहीं है?

है क्यों नहीं – एक ओर से किसी का कंठ स्वर सुनाई पड़ा| और उसके साथ ही एक तेजस्वी युवक एक ओर से निकलकर अर्जुन के सामने जाकर खड़ा हो गया| उसके हाथों में धनुष-बाण था| वह सूर्य के समान तेजवान ज्ञात हो रहा था| युवक को देखकर कृपाचार्य बोल उठे – यह तो अधिरथ सारथि का बेटा कर्ण है| यह अर्जुन का मुकाबला कैसे कर सकता है? यह कोई राजकुमार तो है नहीं|

कृपाचार्य के स्वर को सुनकर चारों ओर सन्नाटा छा गया| कुछ क्षणों के पश्चात सहसा कोई बोल उठा – राजकुमार नहीं है तो क्या हुआ, मनुष्य तो है| बोलने वाला स्वयं दुर्योधन था| वह अपने स्थान पर तन कर खड़ा हो गया|

कृपाचार्य फिर बोले, “किंतु इस शौर्य-परीक्षा में राजकुमारों को छोड़कर कोई भाग नहीं ले सकता|”

दुर्योधन फिर बोला, “यदि यह बात है, तो मैं अभी कर्ण को राजपद पर प्रतिष्ठित किए देता हूं|”

दुर्योधन ने कर्ण के पास जाकर अपने अंगूठे को चीरकर रक्त निकाला| रक्त से कर्ण का तिलक करते हुए उसने कहा, “मैं कर्ण को अंग देश का राजा बना रहा हूं| यह आज से अधिरथ का पुत्र नहीं, अंग देश का राजा है| अंग देश के राजा के रूप में यह अर्जुन का मुकाबला कर सकता है|”

दुर्योधन की बात को सुनकर भीम उठकर खड़ा हो गया| वह व्यंग भरे स्वर में बोला, “कर्ण को अंग देश का राजा तुम कैसे बना सकते हो? तुम हस्तिनापुर के राजा तो हो नहीं| राजा तो महाराज धृतराष्ट्र हैं|”

भीम के कथन को सुनकर एकत्र जनसमूह में बड़ा शोरगुल पैदा हुआ| उस शोरगुल से ऐसा प्रतीत होने लगा कि अगर समारोह को समाप्त नहीं किया जाता, तो संघर्ष हो जाएगा|

फलत: द्रोणाचार्य ने उठकर समारोह को समाप्त किए जाने की घोषणा कर दी| अर्जुन और कर्ण का मुकाबला हुए बिना ही समारोह तो समाप्त हो गया, पर उसी दिन से पांडवों और कौरवों में शत्रुता की आग भी जल उठी| जब तक महाभारत के युद्ध की आग में सबकुछ जलकर समाप्त नहीं हो गया, तब तक वह आग जलती रही, बराबर जलती रही|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏