🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँसर्पदंश से रोहिताश्व की मृत्यु

सर्पदंश से रोहिताश्व की मृत्यु

सर्पदंश से रोहिताश्व की मृत्यु

उधर रानी दिन-रात ब्राह्मण के घर काम में जुटी रहती थी| ब्राह्मण उसके बेटे रोहिताश्व को भी काम बताता रहता था| एक दिन उसने रोहिताश्व को बगीचे से पूजा के फूल लेन को भेजा, जहां एक विषैले सर्प ने उसे डस लिया|

“सर्पदंश से रोहिताश्व की मृत्यु” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

विष के तीव्र प्रभाव से बालक का प्राणांत हो गया| जब रोहिताश्व बहुत देर तक वापस न लौटा तो रानी उसे खोजते हुए बगीचे में पहुंची|

वहां मृत पुत्र को देखकर वह विलाप करने लगी| लिकिन कौन था वंहा उसे सांत्वना देने वाला? बहुत देर रोने के बाद आखिर वह कुछ संयत हुई और अपने पुत्र का शव लेकर ब्राह्मण के पास पहुंची| उसने ब्राह्मण से कुछ पैसे देने की प्रार्थना की ताकि वह कफन खरीदकर अपने पुत्र का शव दाह कर सके| लेकिन ब्राह्मण ने उसे पैसे देने से स्पष्ट इनकार कर दिया|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏