🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

नेकी का बदला

नेकी का बदला

एक वृक्ष डाल पर एक कबूतर बैठा था| वह वृक्ष नदी के किनारे था| कबूतर ने डालपर बैठे-बैठे नीचे देखा कि नदी के पानी में एक चींटी बहती जा रही है|

“नेकी का बदला” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

वह बेचारी बार-बार किनारे आना चाहती है; किन्तु पानी की धारा उसे बहाये लिये जा रही है| ऐसा लगता है कि चींटी थोड़े क्षणों में ही पानी में डूबकर मर जायगी| कबूतर को दया आ गयी| उसने चोंच से एक पत्ता तोड़कर चींटी के पास पानी में गिरा दिया| चींटी उस पत्ते पर चढ़ गयी| पत्ता बहकर किनारे लग गया| पानी से बाहर आकर चींटी कबूतर की प्रशंसा करने लगी|

उसी समय एक बहेलिया वहाँ आया और पेड़ के नीचे छिपकर बैठा गया| कबूतर ने बहेलिये को देखा नही| बहेलिया अपना बाँस कबूतर को फँसा लेने के लिए ऊपर बढ़ाने लगा| चींटी ने यह सब देखा तो पेड़ की ओर दौड़ी| वह बोल सकती तो अवश्य पुकारकर कबूतर को सावधान कर देती; किंतु बोल तो वह सकती नहीं थी| अपने प्राण बचाने वाले कबूतर की रक्षा करने का उसने विचार कर लिया था| पेड़ के नीचे पहुँचकर चींटी बहेलिये के पैर पर चढ़ गयी और उसने उसकी जांघ में पूरे जोर से काट लिया|

चींटी के काटने से बहेलिया चमक गया| उसका बाँस हिल गया| इससे पेड़ के पत्ते खड़क गये और कबूतर सावधान होकर उड़ गया| जो संकट में पड़े लोगों की सहायता करता है, उस पर संकट आने पर उसकी सहायता का प्रबन्ध भगवान् अवश्य कर देते हैं|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏