🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँमुर्ख को सीख देने का फल

मुर्ख को सीख देने का फल

मुर्ख को सीख देने का फल

एक जंगल में बरगद के विशाल वृक्ष पर अनेक पक्षियों का बसेरा था| वर्षा का मौसम आने से पूर्व ही सबने अपने-अपने घोंसलों की मरम्मत आदि करके दाना-पानी एकत्र कर लिया था| जंगल के अन्य जीवों ने भी अपना-अपना बंदोबस्त कर लिया था|

“मुर्ख को सीख देने का फल” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

जब वर्षा का मौसम आ गया और तेज़ वर्षा होने लगी, तब सभी पक्षी अपने-अपने घोंसलों में बैठकर प्रकृति का नज़ारा देखने लगे|

अनायास एक बंदर न जाने कहाँ से भीगता हुआ आया और एक डाल पर पतों की ओट में छिपकर बैठ गया| वह ठंड से बुरी तरह काँप रहा था|

वृक्ष के पक्षियों को उस पर दया आ गई| लेकिन उनके घोंसलों में इतनी जगह कहाँ थी कि उसे पनाह दे सकते| अन्य पक्षियों को जहाँ दया आ रही थी, वही बया को बंदर पर क्रोध आ रहा था|

आखिर जब उससे रहा नही गया तो वह बोली, ‘बंदर भैया! हम पक्षियों को देखो| हमें भगवान ने हाथ नही दिए, तब भी हमने अपने-अपने घोंसलें बना रखे है| हम सर्दी, धूप या बरसात से अपने बच्चों की रक्षा करते है| तुम्हें तो भगवान ने हाथ और पैर दोनों दिए है| तुम धूप-बरसात से बचने के लिए घर क्यों नही बना लेते? क्यों सारा दिन ऊधम करते रहते हो?’

बया की बात सुनकर बंदर क्रोधित हो गया| उसने समझा कि बया उसका मज़ाक उड़ा रही है|

बस फिर क्या था!

एक ही छलांग में बया के घोंसले वाली डाल पर पहुँच गया और क्रोधित से थर-थर काँपते हुए बोला, ‘बया की बच्ची! तू अपने आपको बहुत सयानी समझती है| बड़ा अभियान है तुझे अपने घोंसले पर, तो ले…|’

उसने झपट्टा मारकर बया का घोंसला तोड़कर ज़मीन पर फेंक दिया|

घोंसले में बैठे बया के छोटे-छोटे बच्चे चीख-पुकार करने लगे| बया भी ज़ोर-ज़ोर से रोने लगी| कही बंदर दूसरे पक्षियों के घोंसले भी न तोड़ डाले, यही सोचकर सभी पक्षी अपने-अपने घोंसलों से निकल आए और हमला कर बंदर को वहाँ से भगा दिया|


कथा-सार

सीख व शिक्षा उसी को देना ठीक है, जो उन पर अम्ल कर सके| मूर्ख को शिक्षा देने का कोई लाभ नही, वह तो अपनी ही धुन में रहता है| बया ने बंदर को सीख देनी चाही तो उसने उसका गलत अर्थ लिया और बया का घोंसला उजाड़ दिया| अतः सामने वाले का स्वभाव देखकर ही कुछ कहना चाहिए|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏