🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏

मेल की शक्ति

मेल की शक्ति

मातादीन के पाँच पुत्र थे-शिवराम, शिवदास, शिवपाल, शिवसहाय और शिवपूजन| ये पाँचों लड़के परस्पर झगड़ा किया करते थे| छोटी-सी बात पर भी आपस में ‘तू-तू’, ‘मैं-मैं’ करने लगते और गुत्थमगुत्थी कर लेते थे|

“मेल की शक्ति” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

मातादीन अपने लड़कों के झगड़े से बहुत ऊब गया था| उसने एक दिन उन्हें समझाने के विचार से पास बुलाया| उसने पहले से पतली-पतली सूखी पाँच टहनियों का उसने एक छोटा गट्ठर बना लिया था| पुत्रों से उसने कहा-‘तुम में से जो इन टहनियों के गट्ठर को तोड़ देगा, उसे एक रुपया पुरस्कार मिलेगा|’

पाँचों लड़के झगड़ने लगे कि गट्ठर को वे पहले तोड़ेंगे| उन्हें डर था कि यदि दूसरा भाई पहले देगा तो रुपया उसी को मिल जायगा| मातादीन ने कहा- ‘पहले छोटे भाई शिवपूजन को तोड़ने दो|’

शिवपूजन ने गट्ठर उठा लिया और जोर लगाने लगा| दाँत दबाकर, आँख मीचकर बहुत जोर उसने लगाया| सिर पर पसीना आ गया; किंतु गट्ठर की टहनियाँ नहीं टूटीं| उसने गट्ठर शिवसहायको दे दिया| उसने भी जोर लगाया, पर तोड़ नहीं सका| इस प्रकार सब लड़कों ने बारी-बारी से गट्ठर लिया और जोर लगाया; किंतु कोई उसे तोड़ने में सफल नहीं हुआ|

मातादीन ने गट्ठर खोलकर एक-एक टहनी सब लड़कों को दे दी| इस बार सभी ने टहनियों को पटापट तोड़ दिया| अब मातादीन बोला- ‘देखो! ये टहनियाँ जब तक एक साथ थीं तुममें से कोई उन्हें तोड़ नहीं सका और जब ये अलग-अलग हो गयीं तो तुमने सरलता से सबको तोड़ डाला| इसी प्रकार यदि तुम लोग आपस में झगड़ते और अलग रहोगे तो दूसरे लोग तुम लोगों को तंग करेंगे और दबा लेंगे| लेकिन यदि तुम लोग परस्पर मेल से रहोगे तो कोई तुम से शत्रुता करने का साहस ही नहीं करेगा|’

मातादीन के लड़कों ने उसी दिन से आपस में झगड़ना छोड़ दिया| वे मेल से रहने लगे|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏