🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँहथेली पर बाल क्यों नहीं (बादशाह अकबर और बीरबल)

हथेली पर बाल क्यों नहीं (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह अकबर को ठिठोली सूझी, बोले – “बीरबल मेरी हथेली पर बाल क्यों नहीं हैं?”

“हथेली पर बाल क्यों नहीं” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

“हुजूर रोज अपने हाथों से गरीबों और जरूरतमन्दों को दान आदि देते हैं, इसी कारण आपकी हथेली पर बाल टिक नहीं पाते|”

“अच्छा! लेकिन तुम्हारी हथेली पर बाल क्यों नहीं हैं?”

“इन्हीं हाथों से आपसे दान लेता रहता हूं, इसलिए मेरी हथेली पर भी बाल नहीं टिकते|”

बीरबल की सूझबूझ से अकबर प्रसन्न हुए, लेकिन उन्होंने फिर पूछा – “अच्छा बीरबल, इन दरबारियों के हाथ पर बाल क्यों नहीं हैं?”

“हुजूर, सीधी-सी बात है… आप दान देते हैं और मैं दान लेता हूं, ऐसे में यह बेचारे दरबारी हाथ मलते रहते हैं, इसलिए इनकी हथेली पर भी बाल नहीं टिकते|”

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏