🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँबीरबल की तीरदांजी (बादशाह अकबर और बीरबल)

बीरबल की तीरदांजी (बादशाह अकबर और बीरबल)

बीरबल की तीरदांजी (बादशाह अकबर और बीरबल)

अकबर ने बीरबल पर व्यंग्य करते हुए कहा – “बीरबल, तुम सिर्फ बातों के तीरंदाज हो, अगर तीन-कमान पकड़कर तीरदांजी करनी पड़े तो हाथ-पांव फूल जाएंगे|”

“बीरबल की तीरदांजी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

यह बात सुनकर सभी दरबारी खुश हो गए, उन्हें लगा अब बीरबल कोई जवाब नहीं दे पाएगा| किन्तु बीरबल कहां मानने वाला था, उसने कहा – “हुजूर, मैं बातों के साथ-साथ बहुत अच्छा तीरंदाजी भी हूं|”

बादशाह तो जवाब सुनकर चुप हो गए किंतु दरबारियों से रहा न गया| उन्हें लगा कि बीरबल को नीचा दिखाई का यही मौका है, इसलिए वे बादशाह अकबर पर जोर डालने लगे कि बीरबल की तीरदांजी की परीक्षा ली जाए| अकबर ने भी सोचा कि बीरबल ने जब कहा है तो उसकी तीरंदाजी भी देख ही ली जाए|

बादशाह अकबर तथा अन्य दरबारियों के साथ बीरबल मैदान में पहुंचा| उसके हाथ में तीर-कमान पकड़ा दिया गया और कुछ दूरी पर एक लक्ष्य रखकर निशाना साधने को कहा गया|

बीरबल ने पहला तीर चलाया…निशाना चूक गया| तुरन्त ही बीरबल बोला-“यह थी मुल्लाजी की तीरदांजी|” दूसरा तीर भी चूक गया| इस पर उसने इसे राजा टोडरमल की तीरदांजी बताया|

संयोग से तीसरा तीर सीधा अपने लक्ष्य पर जाकर लगा| तब बीरबल ने बड़े गर्व से कहा – “और इसे कहते हैं बीरबल की तीरन्दाजी|”

अकबर हंस पड़े, वह समझ गए कि बीरबल ने यहां भी बातों की तीरन्दाजी की है|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏